S M L

Exclusive: आरबीआई के साथ सरकार के अच्छे रिश्ते हैं-जेटली

जेटली ने यह कहा कि की घाटे में चल रहे बैंकों को बंद करने की बजाय इनका या तो मजबूत बैंकों में विलय कर देना चाहिए या इनका एकीकरण कर देना चाहिए

Updated On: Feb 04, 2018 05:44 PM IST

FP Staff

0
Exclusive: आरबीआई के साथ सरकार के अच्छे रिश्ते हैं-जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नेटवर्क18 को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में इस बात पर जोर दिया कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के साथ केंद्र सरकार का कामकाज के मामले में काफी अच्छा रिश्ता है. उन्होंने कहा कि 2016 में मॉनिटरी पॉलिसी कमिटि के गठन के बाद दोनों के बीच महंगाई को नियंत्रित करने के मुद्दे पर बेहतर समन्वय देखने को मिला है.

जेटली ने कहा कि हमें पता है कि आरबीआई का कार्य और अधिकार क्षेत्र क्या है. जो कुछ भी हमें देना होता है (सलाह), हम उन्हें देते हैं, और आरबीआई इस पर अपना निर्णय लेता है. आगे वित्त मंत्री ने कहा कि हम सबका कार्यक्षेत्र स्पष्ट है. आरबीआई अपना काम कर रही है. मॉनिटरी पॉलिसी कमिटि भी अपना काम कर रही है.

नेटवर्क18 ग्रुप के एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी से बात करते हुए जेटली ने मोदी सरकार द्वारा बैंकिग सेक्टर में किए जाने वाले रिफॉर्म की योजनाओं के बारे में बताया. जेटली ने कहा कि पहले बैंकों को लूटा जा रहा था. मौजूदा समय में हमने कर्जदाता-लेनदार संबंध के लिए एक आईबीसी (इनसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड) कोड दिया है और इससे पूरा खेल बदल गया है.

घाटे में चल रहे बैंकों के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए जेटली ने इस बात की हिमायत की कि इन बैंकों को बंद करने के बजाय इनका या तो मजबूत बैंकों में विलय कर देना चाहिए या इनका एकीकरण कर देना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि उनकी प्राथमिकता बैंकों के पुनर्पूंजीकरण द्वारा बैंकिंग सेक्टर को मजबूत करना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi