S M L

एयर एशिया मामला: सायरस मिस्त्री कानूनी लड़ाई के जरिए ले रहे बदला-वेंकटरमनन

मंगलवार को सीबीआई ने एयर एशिया इंडिया के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप में मामले दर्ज किए थे, वेंकटरमन ने इसके लिए सायरस मिस्त्री पर निशाना साधा है

FP Staff Updated On: May 30, 2018 09:40 PM IST

0
एयर एशिया मामला: सायरस मिस्त्री कानूनी लड़ाई के जरिए ले रहे बदला-वेंकटरमनन

निजी विमानन कंपनी एयर एशिया के खिलाफ मंगलवार को सीबीआई ने भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया था. एफआईआर में एयर एशिया समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) टोनी फर्नांडीज समेत एयर एशिया इंडिया के निदेशक आर वेंकटरमनन समेत कई अन्य के नाम भी हैं. अब इस मामले पर आर वेंकटरमन ने अपनी सफाई पेश की है और सायरस मिस्त्री पर कानूनी लड़ाई से बदला लेने का आरोप लगाया है.

वेंकटरमनन ने अपने बयान में कहा है कि मुझे गलत तौर पर सीबीआई ने आरोपी बनाया है. एयर एशिया लिमिटेड के नॉन एक्जिक्युटिव डायरेक्टर के नाते ऑपरेशनल मैटर में मेरी कोई भूमिका ही नहीं है या है तो काफी कम.

उन्होंने कहा है कि एयर एशिया पर लगाए गए मौजूदा आरोपों की जड़ साइरस मिस्त्री और शापूर पलोनजी समूह द्वारा टाटा ट्रस्ट के ट्रस्टी पर लगाए गए आधारहीन आरोपों में है. उन्होंने कहा कि मिस्त्री और उनका समूह टाटा सन्स के खिलाफ कानूनी लड़ाई से बदला लेना चाहते हैं.

उन्होंने अपने बयान में कहा है कि मेरे द्वारा विमानन क्षेत्र में 5/20 के मुद्दे पर लिखा गया मेल मीडिया में प्रसारित किया गया है. यह एक नीतिगत मामला रहा है और इस पर काफी बहस भी हुई है. एयर एशिया इंडिया समेत कई एयरलाइंस ने इस नीति की समीक्षा की मांग की थी.

वेंकटरमनन ने कहा कि मैं दोहराता हूं कि मेरे खिलाफ गलत काम या अवैध काम के सभी आरोप निराधार हैं. उन्होंने कहा कि यह टाटा ट्रस्ट द्वारा किए जा रहे कार्यों को बदनाम करने की कोशिश है. वेंकटरमन ने साइरस मिस्त्री पर निशाना साधते हुए कहा कि वो और उनकी कंपनी ट्रस्ट को बदनाम करने के प्रयास करते रहें लेकिन हम लोगों के जीवन की गुणवत्ता बढ़ाने का कार्य करते रहेंगे.

क्या है एयर एशिया भ्रष्टाचार का मुद्दा

एयर एशिया पर कथित रूप से भ्रष्टाचार के जरिए सरकारी नीतियों में हेरफेर कर अपने भारतीय उपक्रम एयर एशिया इंडिया लि. के लिए अंतरराष्ट्रीय उड़ान लाइसेंस हासिल करने के लिए यह मामला दर्ज किया गया है.

अधिकारियों ने बताया कि यह मामला अंतरराष्ट्रीय उड़ान परिचालन का लाइसेंस पाने के लिए कंपनी के अधिकारियों द्वारा 5/20 नियम के कथित उल्लंघन से जुड़ा है. इसके अलावा इसमें विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (एफआईपीबी) के नियमों के उल्लंघन का मामला भी शामिल है.

5/20 के नियम को समाप्त करवाने के हुए थे प्रयास

फर्नांडीज के अलावा तारुमलिंगम कणगलिंगम (मलेशिया की एयर एशिया बेरहद के पूर्व डिप्टी सीईओ) और एयर एशिया इंडिया के निदेशक आर वेंकटरमन के अलावा एयर एशिया इंडिया प्राइवेट लि. और एयर एशिया बेरहद को भी इस मामले में आरोपी बनाया गया है.

सीबीआई के प्रवक्ता आरके गौड़ ने कहा कि यह मामला आईपीसी की धारा 120- बी (आपराधिक साजिश) और भ्रष्टाचार रोधक कानून की धारा 13(2) और 13(1) (डी) के तहत दर्ज किया गया है.

एजेंसी का आरोप है कि वेंकटरमन आवश्यक मंजूरी हासिल करने के लिए सरकार में लॉबिंग कर रहे थे. इनमें से कुछ गैर-पारदर्शी तरीके थे. मसलन उस समय विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी, अनापत्ति प्रमाणपत्र तथा 5-20 नियम को समाप्त करवाने या उसमें संशोधन का प्रयास शामिल है.

क्या होता है 5/20 का नियम

विमानन क्षेत्र में 5/20 के नियम का मतलब किसी कंपनी के लिए पांच साल का अनुभव और 20 विमानों का बेड़ा होना अनिवार्य है , तभी वह अंतरराष्ट्रीय उड़ान का परिचालन कर सकती है.

कंपनी को अभी तक अंतरराष्ट्रीय उड़ान परमिट नहीं मिला है क्योंकि फिलहाल उसके बेड़े में सिर्फ 18 विमान हैं.

एयर एशिया मलेशिया के समूह सीईओ एंथनी फ्रांसिस ‘टोनी’ फर्नांडीज के अलावा सिंगापुर की एचएनआर ट्रेंडिंग के निदेशक राजेंद्र दुबे, टोटल फूड सर्विसेज के मालिक सुनील कपूर, एयर एशिया के निदेशक आर वेंकटरमनन, विमानन सलाहकार दीपक तलवार और अज्ञात सरकारी कर्मचारियों के नाम भी प्राथमिकी में शामिल हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi