S M L

एयर एशिया लाइसेंस मामले की CBI जांच में कौन हो रहा है बेनकाब?

सीबीआई जांच कर रही है कि भारत में विदेशी उड़ान का लाइसेंस लेने के लिए एयर एशिया ने किस-किस को रिश्वत दी थी

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Jun 04, 2018 10:22 PM IST

0
एयर एशिया लाइसेंस मामले की CBI जांच में कौन हो रहा है बेनकाब?

सीबीआई ने आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और घूस देने के आरोप में मलेशिया एयर एशिया पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. जांच एजेंसी ने एयर एशिया के सीईओ टोनी फर्नांडिस सहित कुछ शीर्ष अधिकारियों के खिलाफ पिछले मंगलवार को मामला दर्ज किया था. सीबीआई ने एयर एशिया के सीईओ टोनी फर्नाडिंस को ई-मेल भेज कर दिल्ली स्थित सीबीआई मुख्यालय में 6 जून को पेश होने को कहा है.

किसको मिली रिश्वत?

सीबीआई जांच कर रही है कि भारत में विदेशी उड़ान का लाइसेंस लेने के लिए एयर एशिया ने किस-किस को रिश्वत दी थी. सीबीआई एयर एशिया के सीईओ टोनी फर्नाडिंस से फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) से मंजूरी के संबंध में कई सवाल पूछने वाली है.

सीबीआई भारत में एविएशन इंडस्ट्री के नियम 5/20 में बदलाव कराने में अहम भूमिका निभाने वालों की तलाश कर रही है. एफआईपीबी नियम में बदलाव के बाद ही एयर एशिया को अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की इजाजत मिली थी.

भारत में विदेशी विमान सेवा शुरू करने के लिए किसी विदेशी एयरलाइन को भारत में कम से कम पांच साल तक उड़ानें करनी पड़ती है. साथ ही कम से कम उस विदेशी कंपनी के पास कम से कम 20 एयरक्राफ्ट होना जरूरी है.

कौन-कौन है निशाने पर?

सीबीआई ने अपने एफआईआर में फ्लाइट्स में कैटरिंग की कंपनी चलाने वाले सुनील कपूर, एविएशन कंसल्टेंट दीपक तलवार, सिंगापुर की एसएनआर ट्रेडिंग के डायरेक्टर राजेंद्र दूबे और कुछ अज्ञात सरकारी कर्मचारी का नाम लिखा है. सीबीआई ने टोनी फर्नाडिंस और वेंकटरमनन पर लाइसेंस क्लीयरेंस के लिएसरकारी कर्मचारी को अपने पक्ष में करने और एविएशन की मौजूदा नियम 5/20 से छूट पाने के लिए पॉलिसीज में बदलाव करने का मामला दर्ज किया है.

Air-Asia-ceoTony-Fernandez

एयर एशिया के सीईओ टोनी फर्नाडिंस पर आरोप है कि वह एयर एशिया के भारत में पूर्व सीईओ मिट्टू शांडिल्य पर दबाव डाल रहे थे कि भारत में अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की नियामक नीति में किसी तरह बदलाव करवा दें ताकि कंपनी जल्द ही अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शरू कर सके.

क्या हैं आरोप?

भारत में टाटा संस के संयुक्त उपक्रम वाली एयर एशिया इंडिया लिमिटेड (एएआईएल) के कुछ बड़े अफसरों पर भी धोखाधड़ी में शामिल होने का आरोप है. एएआईएल के कुछ अधिकारी भी अंतरराष्ट्रीय रूटों पर उड़ान के लाइसेंस हासिल करने के लिए एफडीआई के नियमों को ताक पर रख दिया. साथ ही इन लोगों ने एफडीआई के नियमों में ढील देने के लिए कुछ सरकारी अधिकारियों को रिश्वत भी दी.

सीबीआई के सूत्रों का कहना है कि एयर एशिया के ग्रुप सीईओ टोनी फर्नांडिस और डिप्टी ग्रुप सीईओ बी लिंगम ने लॉबिंग करने वाले ऐसे लोगों की भी मदद ली, जिसका संबंधित विभाग से कोई ताल्लुक नहीं था.

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक इस डील में अहम भूमिका टाटा संस के वेंकटरमनन ने निभाई. सीबीआई सूत्रों का कहना है कि वेंकटरमनन ने ही तात्कालीन फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड से मंजूरी हासिल करने के लिए प्रमुख तौर पर लॉबिंग की थी. टोनी फर्नाडिंस को भारतीय अधिकारियों से मिलाने में भी वेंकटरमनन ने प्रमुख तौर पर मदद की थी.

यूपीए-2 में ही शुरू हो गई थी कहानी

सीबीआई की तफ्तीश में उजागर हुआ है कि 5/20 नियम बदलने की साजिश की नींव यूपीए-2 में पड़ गई थी. सीबीआई के एफआईआर के मुताबिक फरवरी 2013 में एयर एशिया ने एफआईपीबी को अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के लिए आवेदन दिया था और अप्रैल 2013 में ही उसे औपचारिक मंजूरी भी मिल गई थी.

यह मामला तब सामने आया था जब टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री ने एयर एशिया पर कई गंभीर आरोप लगाए थे. बीते गुरुवार को भी साइरस मिस्त्री ने एयर एशिया मामले में टाटा संस पर जबरदस्त हमला बोला था. साइरस मिस्त्री ने आरोप लगाया था कि सीबीआई की एफआईआर में आरोपी एयर एशिया के सीईओ टोनी फर्नाडिंस और वेंकटरमनन ने टाटा के नाम का इस्तेमाल अपने संदिग्ध कामों को छुपाने के लिए किया.

पिछले साल ही साइरस मिस्त्री ने आरोप लगाया था कि एयर एशिया एयरलाइंस ने विदेशी उड़ानें चालू करने के लिए 22 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी हुई है. साइरस मिस्त्री के आरोप के बाद ही सीबीआई और ईडी दोनों ने इस मामले की जांच शुरू की थी.

साल 2016 में ही साइरस मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन पद से हटा दिया गया था. इसके कुछ महीने बाद ही साइरस मिस्त्री ने वेंकटरमनन पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया था. वेंकटरमनन ने तब कहा था कि यह बदले की भावना से और टाटा ब्रांड को बदनाम करने की साजिश है.

सीबीआई के द्वारा दर्ज एफआईआर के बाद एयर एशिया का कहना है कि सीबीआई के आरोप में कोई दम नहीं है. एयर एशिया का कहना है कि सीबीआई का यह आरोप गलत है कि उसने धोखाधड़ी के दम पर 5/20 नियम में बदलाव किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi