S M L

फेस्टिव सीजन में क्रेडिट कार्ड का पूरा फायदा लेने के लिए रखें इन बातों का ध्यान

बैंकों ने 2015-16 की तुलना में 2016-17 में 57 फीसदी ज्यादा क्रेडिट कार्ड जारी किए

Updated On: Sep 26, 2017 12:43 PM IST

FP Staff

0
फेस्टिव सीजन में  क्रेडिट कार्ड का पूरा फायदा लेने के लिए रखें इन बातों का ध्यान

फेस्टिव सीजन में क्रेडिट कार्ड का उपयोग काफी बढ़ जाता है. लोग इस दौरान अपनी पसंद की चीजें खरीदते हैं. हालांकि कार्ड के जरिए खर्च बढ़ने से कर्ज के दलदल में फंसने का डर भी बना रहता है. इसीलिए अपने क्रेडिट कार्ड का उपयोग बहुत ध्यान से करना चाहिए. बैंकों ने 2015-16 की तुलना में 2016-17 में 57 फीसदी ज्यादा क्रेडिट कार्ड जारी किए. इससे खासकर युवाओं में बढ़ती इसकी लोकप्रियता को आसानी से समझा जा सकता है.

 क्रेडिट कार्ड के फायदे

क्रेडिट कार्ड का अगर उपयुक्‍त तरीके से यूज हो तो इसके कई लाभ हैं. उदाहरण के लिए इससे खरीदारी करना पर्सनल लोन लेकर खरीदारी करने से बेहतर है. क्रेडिट कार्ड में ईएमआई सुविधा भी होती है. इसके अलावा कभी न कभी हम फंड की कमी से जूझते ही हैं, यहां पर क्रेडिट कार्ड की भूमिका अहम हो जाती है, क्‍योंकि घर से बाहर आपकी मदद करने वाले कम ही लोग होते हैं. लेकिन इसके उपयोग करते समय कुछ बातों का ख्‍याल भी रखा जाना चाहिए.

कार्ड की लिमिट जानना जरूरी

सभी क्रेडिट कार्ड से खर्च की लिमिट होती है. हमेशा कम लिमिट वाला क्रेडिट कार्ड चुनें और अपनी लिमिट का सिर्फ 30 से 40 फीसदी ही उपयोग करें, क्‍योंकि खर्च अधिक होने से डिफॉल्‍ट का खतरा भी अधिक हो जाता है.

समय से पहले बिल चुकाएं

क्रेडिट कार्ड का सबसे बड़ा फायदा है कि इससे मुफ्त की क्रेडिट लिमिट मिल जाती है. लेकिन अगर आप समय पर कर्ज नहीं चुका पाते हैं तो आपको 36 फीसदी तक ब्याज भी चुकाना पड़ सकता है.

ग्रेस पीरियड के उपयोग से बचें

कुछ बैंक कर्ज चुकाने के लिए ग्रेस पीरियड देते हैं. हालांकि इसका इंतजार नहीं करना चाहिए. आपको फ्री क्रेडिट पीरियड के दौरान ही अपना कर्ज चुका देना चाहिए. ऐसा नहीं करने पर आपका क्रेडिट स्कोर प्रभावित हो सकता है. क्रेडिट स्कोर कम होने से आसान शर्तों और कम ब्‍याज दर पर लोन मिलने में दिक्कत आती है.

ना फंसे रिवार्ड प्वाइंट के लालच में

अक्‍सर लोग रिवार्ड प्‍वाइंट के लालच में फंस जाते हैं. क्रेडिट कार्ड देने वाले बैंक चाहते हैं कि आप क्रेडिट की सुविधा का अधिकतम उपयोग करें, इससे उनको लाभ होगा. अगर आप समय पर पेमेंट नहीं करेंगे तो उन्‍हें अधिक ब्‍याज के रूप में बहुत फायदा होगा. इसलिए बैंक आकर्षक रिवॉर्ड प्वाइंट स्कीम लाते हैं, ताकि आप ज्यादा से ज्यादा खर्च करें, लेकिन इस चक्‍कर में लोग अक्‍सर फंस जाते हैं और समय पर पैसे नहीं चुका पाते हैं.

क्रेडिट कार्ड की जानकारी अपडेट रखें

क्रेडिट कार्ड से खरीद, उसकी रकम और बिल साइकिल का लिखित लेखा-जोखा रखें. ऑनलाइन खरीद करते समय क्रेडिट कार्ड की जानकारी वेबसाइट पर स्टोर करके नहीं रखें, इससे धोखाधड़ी के शिकार हो सकते हैं. कई बार वायरस के हमले से वेबसाइट का डेटा भी चोरी हो सकता है. हमेशा दो चरणों में ट्रांजैक्शन पूरा करें. किसी फास्ट फॉरवर्ड ट्रांजैक्शन के चक्कर में न फंसे.

पेमेंट से पहले वेबसाइट की जांच-परख कर लें

क्रेडिट कार्ड से पेमेंट के मामले में भी जरूरी जांच-परख जरूरी है. अगर वेबसाइट के शुरू में एचटीटीपीएस नहीं दिखे तो वहां अपने कार्ड की जानकारी न डालें. आप खुद भी यह पता कर सकते हैं कि वह वेबसाइट सुरक्षित है कि नहीं. अगर आप दुकान पर कार्ड के जरिए खरीद कर रहे हैं तो भी आसपास ध्यान रखें.

क्रेडिट कार्ड के जरिए एटीएम से नहीं निकालें पैसे

क्रेडिट कार्ड के जरिए एटीएम से पैसे न निकालें. इसके लिए आपको काफी ब्‍याज देना पड़ता है. किसी बड़ी इमरजेंसी में ही ऐसा करें. इसके लिए अगर आप इमरजेंसी फंड रखेंगे तो ऐसा करने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

डेबिट कार्ड का उपयोग बेहतर

जहां तक संभव हो सके, क्रेडिट कार्ड के बदले डेबिट कार्ड का उपयोग करें. अगर महीने भर के क्रेडिट कार्ड का बिल ज्यादा आ रहा है तो अपनी जीवनशैली में बदलाव करें और अपना खर्च कम करें.

एक कर्ज चुकाने के लिए नहीं लें दूसरा कर्ज

एक क्रेडिट का पैसा भरने के लिए दूसरे क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने से बचें. इस तरह आप कर्ज के जाल में फंसते चले जाएंगे. आपको हर हाल में अपने खर्च को संभालना पड़ेगा. इसके लिए आप फाइनेंशियल प्लानर की मदद भी ले सकते हैं.

(साभार न्यूज 18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi