हिमाचल चुनाव: मशरूम नगरी सोलन में किसका जायका होगा बेहतर

इस क्षेत्र में 80,192 मतदाता हैं और यह अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट है

FP Staff

हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में स्थित है सोलन विधानसभा क्षेत्र. यह शहर बेहद खूबसूरत है और पर्यटकों में बेहद लोकप्रिय भी. यह समुद्र तल से करीब 1467 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. इस जगह के सभी इलाके ऊंचे पहाड़ों और जंगलों से घिरे हुए हैं.

यहां मशरूम की बड़ी पैमाने पर खेती की जाती है. इसके अलावा इसे एक औद्योगिक शहर के रूप में भी जाना जाता है. क्योंकि यह पहाड़ों पर स्थित है, इसलिए यहां बड़े पैमाने पर निर्माण कार्य नहीं किया जा सकता.


यहां के बारे में कहा जाता है कि यहां स्थित कारोल पर्वत के पास की ही एक गुफा में महाभारत के 'पांडव' अपने निर्वासन के दौरान रहे थे. पुराने समय में सोलन बाघाट रियासत की राजधानी हुआ करती थी जिसके पहले राजा बिजली देव थे. इस रियासत का अंत दुर्गा सिंह के शासनकाल में हो गया.

कद्दावर नेता हैं शांडिल्य

इस क्षेत्र में 80,192 मतदाता हैं और यह अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट है. यहां से वर्तमान विधायक कांग्रेस के कर्नल धनीराम शांडिल्य हैं. 77 साल के धनी राम शांडिल्य सेना से रिटायर होने के बाद राजनीति में आए हैं और कांग्रेस के प्रमुख दलित चेहरा हैं. 2012 में उन्होंने बीजेपी की कुमारी शीला को हरा कर विधानसभा का रास्ता तय किया था. यहां से इस बार बीजेपी के राजेश कश्यप उम्मीदवार हैं.

राज्य में 9 नवंबर को चुनाव हैं और इसके लिए सभी दलों ने कमर कस ली है. देखना होगा कि आखिर में बाज़ी किसके नाम होती है.