S M L

Utpanna Ekadashi: इस विधि से करें व्रत, मिलेगी सभी कष्टों से मुक्ति

मान्यता है कि जो भी इस व्रत को विधि विधान से करता है उसे मानसिक समस्या से मुक्ति मिल जाती है

Updated On: Dec 03, 2018 09:06 AM IST

FP Staff

0
Utpanna Ekadashi: इस विधि से करें व्रत, मिलेगी सभी कष्टों से मुक्ति

इस साल 3 दिसंबर यानी सोमवार को उत्पन्ना एकादशी का व्रत पड़ रहा है. हिंदु मान्यताओं के मुताबिक एकादशी व्रत की खास अहमियत है. मार्गशीर्ष मास में कृष्ण पक्ष एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहा जाता है. मान्यता है कि उत्पन्ना एकादशी का व्रत करने से अरोग्य, संतान प्राप्ति और मोक्ष प्राप्ति होती है.उत्तर भारत में यह एकादशी मार्गशीर्ष मास में जबकि महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश में उत्पन्ना एकादशी कार्तिक मास में आती है.

क्या है शुभ मुहूर्त?

- एकादशी तिथि आरंभ का होने का समय- 2 दिसंबर 2018 को दोपहर 2.00 बजे से

- एकादशी तिथि समाप्त होने का समय- 3 दिसंबर 2018 12.59 बजे तक

- एकादशी व्रत की तिथि- 3 दिसंबर 2018

- पारण तिथि- 4 दिसंबर सुबह 07:02 से 09:06 तक

क्या है मान्यता?

पौराणिक कथाओं के मुताबिक माना जाता है कि इस दिन देवी एकादशी का जन्म हुआ था. उन्होंने मुर नामक राक्षस को मारकर भगवान विष्णु जी की रक्षा की थी. उसके बाद से देवी एकादशी जीत की खुशी में इसी दिन से एकादशी व्रत की शुरुआत मानी जाती है. माना यह भी जाता है कि देवी एकादशी का जन्म भगवान विष्णु से हुआ था. वे मारगशीर्ष की कृष्ण पक्ष की एकादशी को प्रगट हुई थीं इसलिए इस एकादशी का नाम उत्पन्ना एकादशी पड़ गया.

क्या है इस एकादशी का महत्व?

मान्यता है कि उत्पन्ना एकादशी का व्रत करने से कठिन तपस्या करने जितना फल प्राप्त होता है. बताया ये भी जाता है कि इस व्रत को करने से बैकुंठ धाम की प्राप्ति होती है. इसके साथ ये भी मान्यता है कि जो भी इस व्रत को विधि विधान से करता है उसे मानसिक समस्या से मुक्ति मिल जाती है.

कैसे करें यह व्रत?

- सुबह जल्दी उठकर ब्रह्म मुहूर्त में पूजा करनी चाहिए.

- इस व्रत को रखने से कई जन्मों के पाप मिट जाते है.

- इस व्रत को रखने से लोग सर्वश्रेष्ठ लोक में स्थान पा सकते हैं.

- व्रत रखने से छल कपट की भावना मन से कम हो जाती है और मोहमाया के प्रभाव से मुक्त हो जाता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi