S M L

इस तारीख से शुरू होगा श्राद्ध, जानिए क्या है पितृ पक्ष का महत्व

15 दिन तक चलने वाले श्राद्ध पक्ष की शुरुआत इस बार 24 सितंबर से हो रही है. श्राद्ध को पितृ पक्ष और महालय के नाम से भी जाना जाता है.

Updated On: Sep 17, 2018 05:45 PM IST

FP Staff

0
इस तारीख से शुरू होगा श्राद्ध, जानिए क्या है पितृ पक्ष का महत्व

भाद्रपद पूर्णिमा से लेकर अश्विन अमावस्या तक श्राद्ध कर्म किए जाते हैं. 15 दिन तक चलने वाले इस विशेष अवधि की शुरुआत इस बार 24 सितंबर से हो रही है. श्राद्ध को पितृ पक्ष और महालय के नाम से भी जाना जाता है.

ऐसी मान्यता है कि हमारे पूर्वज जिनका देहान्त हो चुका है, वे श्राद्ध पक्ष में धरती पर सूक्ष्म रूप में आते हैं. इसलिए पितृ पक्ष में पृथ्वी पर आए पितरों का तर्पण किया जाता है. माना जाता है कि जो लोग अपने पितरों को याद करते हैं, उनके यहां हमेशा सुख शांति बनी रहती है. वहीं जिस तिथि को पितरों का देहांत होता है उसी तिथि को पितरों का श्राद्ध किया जाता है. इस साल 24 सितंबर से शुरू होने वाला श्राद्ध पक्ष 8 अक्टूबर तक चलेगा..

मिलती है शांती

श्राद्ध का मतलब श्रद्धा पूर्वक पितरों को प्रसन्न किए जाने से है. मान्यता के मुताबिक किसी के परिजनों का देहांत हो जान के बाद उनकी तृप्ति के लिए श्रद्धा के साथ तर्पण किया जाता है, उसे ही श्राद्ध कहते है. मान्यता है कि पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म और तर्पण करने से पितरों को शांति और मुक्ति मिलती है.

पुत्रों को श्राद्ध करने का अधिकार है लेकिन अगर पुत्र न हो तो पौत्र, प्रपौत्र या विधवा पत्नी भी श्राद्ध कर सकती है. वहीं पुत्र के न होने पर पत्नी का श्राद्ध पति भी कर सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi