S M L

शनि अमावस्या 2017: 30 साल बाद बना है ऐसा योग, सच्ची आस्था से करेंगे दान तो मिलेगा 4 गुना फल

इस शनि अमावस्या बेहद खास है क्योंकि ये शनि अमावस्या अपने साथ शोभन योग लेकर आ रही है

Updated On: Nov 18, 2017 12:54 PM IST

Ankur Mishra

0
शनि अमावस्या 2017: 30 साल बाद बना है ऐसा योग, सच्ची आस्था से करेंगे दान तो मिलेगा 4 गुना फल

हिंदु शास्त्रों के मुताबिक शनि अमावस्या का अपनी ही महत्व है. इस दिन कर्मफलदाता शनिदेव का जन्म हुआ था. शनिवार के दिन अमावस्या होने के कारण ये अमावस्या बेहद शुभ और खास है.

ये शनि अमावस्या बेहद खास है क्योंकि ये शनि अमावस्या अपने साथ शोभन योग लेकर आ रही है. इसके पहले शनि अमावस्या पर शोभन योग 1987 में बना था.

हिन्दु पौराणों में शनिश्चरी और सोमवती इन दो अमावस्याओं का बहुत ही महत्व है. आपको बता दें की किसी भी महीने की अमावस्या जब शनिवार के दिन पड़ती है तो वह शनिश्चर अमावस्या कही जाती है. इस बार खास बात ये है कि इस दिन साथ में विशाखा नक्षत्र भी है.

क्या है मान्यता ?

- पूर्ण आस्था से किया हुआ दान 4 गुना फल देता है.

- असहाय व्यक्ति और गरीबों की सेवा करने से शनि की कृपा प्राप्त होती है.

- शनि अमावस्या वाले दिन पीपल की जड़ में जल चढ़ाएं.

- शनिदेव को खुश करने के लिए शनिदेव के बीज मंत्र का पाठ करना चाहिए.

- शनि अमावस्या के दिन शनि मंदिर में काले तिल, लोहे के पात्र आदि दान करना चाहिए.

- ऐसा माना जाता है की जब शनिदेव खुश होते हैं, तो पितर भी खुश और शांत होते हैं.

-अमावस्या की शाम सरसों के तेल का दीपक जलाएं

इन मंत्रों का करें स्मरण

- ॐ भानुपुत्राय नम:

- ॐ धनदाय नम:

- ॐ मन्दचेष्टाय नम:

- ॐ क्रूराय नम:

- ॐ मन्दाय नम:

क्या है मुहूर्त?

शनि अमावस्या- सुबह 7 बजे से लेकर रात 9 बजे तक.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi