विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

संकष्टी चतुर्थी 2017: क्या है इसका महत्व? ये उपाय करने पर कर्ज से मिलेगी मुक्ति

शुक्ल पक्ष में आने वाली चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी माना जाता है

FP Staff Updated On: Nov 07, 2017 10:46 AM IST

0
संकष्टी चतुर्थी 2017: क्या है इसका महत्व? ये उपाय करने पर कर्ज से मिलेगी मुक्ति

हिंदू धर्म के मुताबिक भगवान गणेश को सभी देवताओं में प्रथम पूजनीय माना जाता है. इसलिए आज चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की पूजा-अर्चना की जाती है.

हिंदू पंचाग के मुताबिक हर महीने में दो बार चतुर्थी का व्रत आता है. जिसमें कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहा जाता है. शुक्ल पक्ष में आने वाली चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी माना जाता है. संकष्टी चतुर्थी का सबसे ज्यादा महत्व दक्षिण भारत के राज्यों में हैं.

आज का दिन बहुत खास है क्योंकी इस दिन व्रत  करने से  हर तरह के कर्ज से छुटकारा पाया जा सकता है. हिंदू धर्म के मुताबिक भगवान गणेश को सभी देवताओं में प्रथम पूजनीय माना जाता है. इसलिए आज चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की पूजा-अर्चना की जाती है.

दिलचस्प बात है जब ये चतुर्थी मंगलवार को पड़ती है तो इसे अंगारकी चतुर्थी कहते हैं. ये चतुर्थी आज यानि 7 नवंबर को है. आज ही संकष्टी श्री गणेश चतुर्थी का व्रत भी रखा जाता है. इस दिन चांद देखने के बाद व्रत खोला जाता है.

क्यों मनाई जाती है संकष्टी चतुर्थी?

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार माता पार्वती और ऋषि भारद्वाज भगवान गणेश जी के भक्त थे. दोनों ने भगवान गणेश जी की उपासना करने के बाद आशीर्वाद मांगा.ऐसा माना जाता है की माघ कृष्ण चतुर्थी के दिन भगवान गणेश जी ने दोनों को आशीर्वाद दिया. आशीर्वाद देने के बाद भगवान गणेश जी ने वरदान मांगने को कहा.उन्होंने इच्छा जाहिर करते हुए कहा की उनका हमेशा के लिए भगवान गणेश जी के साथ हमेशा के लिए जुड़ जाएं. इस वरदान के साथ ही हर मंगलवार को होने वाली चतुर्थी को अंगारकी संकष्टी चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है.

कर्ज से छुटकारा पाने के लिए करें ये उपाय

- संकष्टी चतुर्थी के दिन एक थाली या केले का पत्ते लें.

- केले का पत्ते या थाली पर पर रोली से एक त्रिकोण का निशान बनाएं.

- थाली में बनाए गए त्रिकोण के निशान के आगे एक दीप जलाएं.

- त्रिकोण के बीच में 900 ग्राम मसूर की दाल और सात साबुत लाल मिर्च रखें.

इस मंत्र का करें 108 बार जाप

'अग्ने सखस्य बोधि नः'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi