S M L

करवा चौथ 2017: जानिए किस दिन है व्रत और क्या है पूजा का मुहूर्त

पूजा का मुहूर्त शाम छह बजकर 16 मिनट से सात बजकर 30 मिनट तक है

FP Staff Updated On: Oct 02, 2017 02:23 PM IST

0
करवा चौथ 2017: जानिए किस दिन है व्रत और क्या है पूजा का मुहूर्त

देश में इस वक्त उत्सव का समय है. पितृ पक्ष के बाद उत्सव का समय शुरू होता है. नवरात्रि और दशहरा के बाद अब करवा चौथ की बारी है, जो उत्तर भारत में खासतौर पर मनाई जाती है. पूरे दिन बिना कुछ खाए पिए महिलाएं शाम को चंद्रदर्शन के साथ अपना व्रत तोड़ती हैं. हिंदी फिल्मों ने भी करवा चौथ को ग्लैमरस  बनाने में अहम रोल निभाया है. इस साल करवा चौथ आठ अक्टूर को पड़ रही है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार यह त्योहार कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को पड़ता है. शादी-शुदा महिलाएं यह व्रत रहती हैं. हालांकि ऐसी लड़कियां भी व्रत रखती हैं, जिनकी शादी होने वाली है.

करवा चौथ की कहानी

इस रोज बगैर खाए या पिए महिलाएं अपने पति या होने वाले पति की लंबी उम्र की कामना में व्रत रहती हैं. करवा चौथ को लेकर कई कहानियां हैं. एक कहानी महारानी वीरवती को लेकर है. सात भाइयों की अकेली बहन थी वीरवती. घर में उसे भाइयों से बहुत प्यार मिलता था. उसने पहली बार करवा चौथ का व्रत अपने मायके यानी पिता के घर रखा. सुबह से बहन को भूखा देख भाई दुखी हो गए. उन्होंने पीपल के पेड़ में एक अक्स बनाया, जिससे लगता था कि चंद्रमा उदय हो रहा है. वीरवती ने उसे चंद्रमा समझा. उसने व्रत तोड़ दिया. जैसे ही खाने का पहला कौर मुंह में रखा, उसे नौकर से संदेश मिला कि पति की मौत हो गई है. वीरवती रात भर रोती रही. उसके सामने देवी प्रकट हुईं और दुख की वजह पूछी. देवी ने उससे फिर व्रत रखने को कहा. वीरवती ने व्रत रखा. उसकी तपस्या से खुश होकर यमराज ने उसके पति को जीवित कर दिया.

करवा चौथ कैसे मनाया जाता है

महिलाएं सुबह सूर्योदय से पहले उठकर सर्गी खाती हैं. यह खाना आमतौर पर उनकी सास बनाती हैं. इसे खाने के बाद महिलाएं पूरे दिन भूखी-प्यासी रहती हैं. दिन में शिव, पार्वती और कार्तिक की पूजा की जाती है. शाम को देवी की पूजा होती है, जिसमें पति की लंबी उम्र की कामना की जाती है. चंद्रमा दिखने पर महिलाएं छलनी से पति और चंद्रमा की छवि देखती हैं. पति इसके बाद पत्नी को पानी पिलाकर व्रत तुड़वाता है.

करवा चौथ का मुहूर्त

आठ अक्टूबर यानी रविवार को करवा चौथ पड़ रही है. पूजा का मुहूर्त शाम छह बजकर 16 मिनट से सात बजकर 30 मिनट तक है. करवा चौथ के दिन चंद्रोदय का समय रात आठ बजकर 40 मिनट है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi