S M L

हरियाली तीज 2018: जानिए क्या है शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

साल भर में कुल चार तीज मनाई जाती हैं, जिनमें हरियाली तीज का विशेष महत्व है

Updated On: Aug 12, 2018 06:35 PM IST

FP Staff

0
हरियाली तीज 2018: जानिए क्या है शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

हिंदू धर्म में तीज पर्व का विशेष महत्व है. यह पर्व भगवान शिव और माता पार्वती के मिलन की याद में मनाया जाता है. तीज के दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत-उपवास रखती हैं. पति की प्राप्ति के लिए अविवाहित लड़कियां भी इस व्रत को रखती हैं. मान्यता है कि तीज का व्रत रखने से विवाहित स्त्रियों के पति की उम्र लंबी होती है, जबकि अविवाहित लड़कियों को मनचाहा जीवन साथी मिलता है.

साल भर में कुल चार तीज मनाई जाती हैं, जिनमें हरियाली तीज का विशेष महत्व है. यह त्योहार मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, राजस्थान और मध्य प्रदेश में मनाया जाता है. श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को पड़ने वाली हरियाली तीज इस साल 13 अगस्त को मनाई जाएगी. इसे श्रावणी तीज भी कहा जाता है.

क्या है शुभ मुहूर्त

हरियाली तीज का शुभ मुहूर्त 13 अगस्त को सुबह 8:38 पर शुरू होगा और 14 अगस्त को को सुबह 5:46 तक रहेगा.

Women worship along the banks of the Bagmati River, during the Rishi Panchami festival, in Kathmandu

हरियाली तीज पूजा विधि

हरियाली तीज की पूजा शाम के समय की जाती है. जब दिन और रात मिलते हैं तो उस समय को प्रदोष काल कहते हैं. इस समय स्वच्छ वस्त्र धारण कर पवित्र होकर पूजा करें.

- अब भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश की मूर्ति बनाएं. परंपरा के अनुसार ये मूर्तियां स्वर्ण की बनी होनी चाहिए लेकिन आप काली मिट्टी से अपने हाथों से ये मूर्तियां बना सकती हैं.

- सुहाग श्रृंगार की चीज़ें माता पार्वती को अर्पित करें.

- अब भगवान शिव को वस्त्र भेंट करें.

- आप सुहाग श्रृंगार की चीज़ें और वस्त्र किसी ब्राह्मण को दान कर सकते हैं.

- इसके बाद पूरी श्रद्धा के साथ हरियाली तीज की कथा सुने या पढ़ें.

- कथा पढ़ने के बाद भगवान गणेश की आरती करें. इसके बाद भगवान शिव और फिर माता पार्वती की आरती करें.

- तीनों देवी-देवताओं की मूर्तियों की परिक्रमा करें और पूरे मन से प्रार्थना करें.

- पूरी रात मन में पवित्र विचार रखें और ईश्वर की भक्ति करें. पूरी रात जागरण करे.

- अगले दिन सुबह भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश की पूजा करें और माता पार्वती को सिंदूर अर्पित करें.

- भगवान को खीरे, हल्वे और मालपुए का भोग लगाएं, और अपना व्रत खोलें.

- ये सभी रीति पूर्ण होने के बाद इन सभी चीज़ों को किसी पवित्र नदी या तालाब में प्रवाहित कर दें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi