S M L

बुद्ध पूर्णिमा 2018: जीवन में सुख और शांति के लिए जरूरी व्रत

बताया जाता कि इस दिन गंगा स्नान करने से जन्मों के पाप से मुक्ति पाई जा सकती है

FP Staff Updated On: Apr 24, 2018 04:31 PM IST

0
बुद्ध पूर्णिमा 2018: जीवन में सुख और शांति के लिए जरूरी व्रत

बुध पूर्णिमा बौध धर्म के अनुयायियों के लिए सबसे बड़ा दिन माना जाता है. इस साल यह 30 अप्रैल को है. बुध पूर्णिमा को बुद्ध जयंती और उनके निर्वाण दिवस के रूप में जाना जाता है. यानी यही वो दिन था जब बुद्ध ने शरीर का त्याग किया था.

बुद्ध पूर्णिमा हर साल वैशाख महीने की पूर्णिमा को मनाई जाती है. वैसे तो हर महीने आने वाली पूर्णिमा खास होती है. लेकिन वैशाख की बुद्ध पूर्णिमा का अपना अलग महत्व है. बताया जाता कि इस दिन गंगा स्नान करने से जन्मों के पाप से मुक्ति मिलती है और जीवन में सुख-शांति का संचार होता है.

बुद्ध पूर्णिमा से जुड़ी मान्यताएं

बुद्ध पूर्णिमा से कई सारी मान्यताएं जुड़ी हैं. बताया जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु ने अपने 9वां अवतार लिया था. ये अवतार भगवान बुद्ध के नाम से लोकप्रिय है. इतना ही नहीं इसी दिन भगवान बुद्ध ने मोक्ष प्राप्त किया था. इस दिन को लोग सत्य विनायक पूर्णिमा के तौर पर भी मनाते हैं. बताया जाता है कि इस दिन सच्चे मन से व्रत करने से गरीबी दूर होती है और घर में सुख समृद्धि आती है. इस दिन कई धर्मराज गुरु की पूजा भी करते हैं. मान्यता है कि इस दिन व्रत करने से धर्मराज गुरु खुश होते है और लोगों लोगों को अकाल मृत्यु का डर नहीं होता.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi