live
S M L

भोपाल: मुलाकाती बच्चों के चेहरे पर मुहर लगाने वाली महिला जेल स्टाफ सस्पेंड

मुलाकातियों को प्रवेश के दौरान अमूमन हाथ पर मुहर लगाई जाती है लेकिन भोपाल केंद्रीय जेल में इन दो बच्चों के गाल पर मुहर लगाई गई थी

Updated On: Aug 09, 2017 08:15 PM IST

Bhasha

0
भोपाल: मुलाकाती बच्चों के चेहरे पर मुहर लगाने वाली महिला जेल स्टाफ सस्पेंड

भोपाल केंद्रीय जेल में राखी के मौके पर जेल कैदियों से मुलाकात करने आए मुलाकातियों में से दो बच्चों के चेहरों पर कथित रूप से भोपाल केंद्रीय जेल की मुहर लगाने के मामले में एक महिला प्रहरी को सस्पेंड कर दिया गया.

जेल पुलिस महानिरीक्षक संजय चौधरी ने बताया, ‘भोपाल केंद्रीय जेल में सोमवार को जेल कैदियों से मुलाकात करने आये दो बच्चों के चेहरों पर मुहर लगाने के मामले में महिला प्रहरी रश्मि प्रजापति को निलंबित किया गया है.’

यह भी पढ़ें: रक्षाबंधन: जेल में पिता से मिलने पहुंचे बच्चों के चेहरे पर लगाई मोहर

उन्होंने कहा, ‘इन बच्चों के गालों पर मुहर लगाने के मामले में प्रथम दृष्ट्या महिला प्रहरी की लापरवाही पायी गई. उसी ने इन दोनों बच्चों के चेहरे पर मुहर लगाई थी. लेकिन यह दुर्भावना से नहीं लगाई गई थी.’ चौधरी ने बताया इस मामले की विभागीय जांच होगी.

जेल में कैदियों से मिलने आने वाले मुलाकातियों को प्रवेश के दौरान अमूमन हाथ पर मुहर लगाई जाती है लेकिन इन दो बच्चों के गाल पर मुहर लगाई गई थी.

मानवाधिकार आयोग ने लिया था संज्ञान

मध्य प्रदेश मानवाधिकार आयोग के जनसंपर्क अधिकारी एल आर सिसोदिया ने बताया, ‘मानवाधिकार आयोग ने एक किशोरी सहित इन दो बच्चों के चेहरे पर लगाई गई इस मुहर पर संज्ञान लिया और जेल महानिदेशक को इस संबंध में कल नोटिस जारी करके सात दिन के अंदर उनसे जवाब मांगा.’

सिसोदिया ने बताया कि मानवाधिकार आयोग का मानना है कि बच्चों के चेहरे पर इस तरह जेल प्रशासन द्वारा मुहर लगाना मानवाधिकारों और बाल अधिकारों को उल्लंघन है.

उन्होंने कहा कि आयोग ने मंगलवार को मीडिया में इन दोनों बच्चों के चेहरे पर मुहर लगी तस्वीर आने के बाद यह कार्रवाई की.

आयोग द्वारा नोटिस मिलने के बाद जेल विभाग हरकत में आया और इस कृत्य को गंभीरता से लेते हुए महिला प्रहरी पर सख्त कार्रवाई करके उसे सस्पेंड किया.

हालांकि, भोपाल केंद्रीय जेल के अधीक्षक दिनेश नरगावे ने मंगलवार को ‘पीटीआई-भाषा’ को फोन पर बताया था, ‘राखी के दिन जेल में कैदियों से मिलने के लिए तकरीबन 8,500 मुलाकाती आते हैं. कुछ महिलाएं और लड़कियां बुर्का पहनकर आती हैं. इसलिए गलती से मुहर हाथ की बजाय गाल पर लग गई होगी. ऐसा प्रतीत होता है कि यह जान-बूझकर नहीं लगाई गई है.’

उन्होंने कहा था कि दरअसल, जेल में परिजनों को कैदियों से मिलने से पहले पहचान चिह्न के लिए इस तरह की मुहर हाथ पर लगाई जाती है, ताकि कोई कैदी भीड़ का फायदा उठाकर बाहर न निकल जाए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi