S M L

अमेरिका में लैपटॉप,आईपैड और कैमरे लेकर नहीं जा सकेंगे इन 8 देशों के लोग

एयरलाइंस ने कहा कि सेलफोन और चिकित्सा यंत्र रखने पर रोक नहीं लगाई गई है

Bhasha | Published On: Mar 21, 2017 12:28 PM IST | Updated On: Mar 21, 2017 12:28 PM IST

अमेरिका में लैपटॉप,आईपैड और कैमरे लेकर नहीं जा सकेंगे इन 8 देशों के लोग

अमेरिकी सरकार ने आठ देशों से आने वाले कुछ विमानों में यात्रियों पर लैपटॉप, आईपैड, कैमरे और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक सामान साथ लाने पर कुछ समय के लिए रोक लगा दी है.

इस प्रतिबंध के पीछे की वजह अभी साफ नहीं हुई है. अमेरिका के सुरक्षा अधिकारियों ने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की. रॉयल जॉर्डन एयरलाइंस और सउदी अरब की आधिकारिक समाचार एजेंसी के बयानों से कल इस प्रतिबंध का खुलासा हुआ.

अमेरिकी अधिकारी ने एपी को बताया कि ये प्रतिबंध 10 इंटरनेशनल हवाईअड्डों से सीधे अमेरिका आने वाली उड़ानों पर लागू होगा.

इन इंटरनेशनल हवाईअड्डों में मिस्र में काहिरा, जॉर्डन में अम्मान, कुवैत में कुवैत सिटी, मोरक्को में कैसाब्लांका, कतर में दोहा, सउदी अरब में रियाद और जेद्दा, तुर्की में इस्तांबुल और संयुक्त अरब अमीरात में अबु धाबी एवं दुबई शामिल हैं.

एक दूसरे अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि इस प्रतिबंध से कुल नौ विमान की कंपनियां प्रभावित होंगी. प्रभावित कंपनियों को इस बारे में बता दिया जाएगा.

यह प्रतिबंध वाशिंगटन में इस्लामिक स्टेट के खिलाफ अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन की कल होने वाली बैठक से ठीक पहले शुरू होगा. इस बैठक में अरब देशों के कई बड़े अधिकारियों के भाग लेने की संभावना है.

रॉयल जॉर्डनियन एयरलाइंस ने कहा कि सेलफोन और चिकित्सा यंत्र रखने पर रोक नहीं लगाई गई है. एयरलाइंस ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक सामानों पर लगे रोक से न्यूयॉर्क, शिकागो, डेट्राइट और मॉन्ट्रियल जाने वाली उसकी उड़ानें प्रभावित होंगी.

गृह सुरक्षा विभाग के प्रवक्ता डेविड लापान ने इस पर कुछ कहने से इनकार कर दिया. अमेरिकी सरकार के एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर बताया कि इस तरह के प्रतिबंध लगाए जाने पर कई सप्ताह से विचार किया जा रहा था.

रैंड कोरपोरेशन में विमानन सुरक्षा विशेषज्ञ ब्रायन जेनकिंस ने कहा कि सुरक्षा के तहत उठाए गए इस कदम से यह पता चलता है कि संभावित खतरे की खुफिया सूचना के बाद इसे लागू किया गया है.

उन्होंने कहा कि इसके पीछे यात्रियों की अपर्याप्त जांच और कुछ देशों में हवाईअड्डे या एयरलाइन कर्मचारियों की मिलीभगत से साजिश रचने की चिंता भी हो सकती है.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi