S M L

उत्तर कोरिया ने समुद्र में दागी तीन मिसाइलें: अमेरिका

उत्तर कोरिया ने कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्व में समुद्र में तीन बैलिस्टिक मिसाइल दागीं

FP Staff Updated On: Aug 26, 2017 05:48 PM IST

0
उत्तर कोरिया ने समुद्र में दागी तीन मिसाइलें: अमेरिका

उत्तर कोरिया ने कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्व में समुद्र में तीन बैलिस्टिक मिसाइल दागीं. यह जानकारी अमेरिकी सैन्य अधिकारियों ने दी है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा हाल में दिए गए इस संकेत के बावजूद ये परीक्षण किए गए कि प्योंगयांग के लगातार बढ़ रहे परमाणु हथियार कार्यक्रमों को रोकने के लिए समझौता किया जा सकता है.

अमेरिका पैसिफिक कमांड ने कहा कि ये कम-दूरी की क्षमता वाली मिसाइलें प्रतीत होती हैं. पहली और दूसरी मिसाइल 'उड़ान भरने में विफल रहीं' और ऐसा प्रतीत होता है कि तीसरी मिसाइल में 'लगभग तुरंत ही विस्फोट हो गया.'

उसने कहा कि नॉर्थ अमेरिकन ऐरोस्पेस डिफेंस कमांड ने पता लगाया है कि ये मिसाइल प्रक्षेपण गुआम के लिए खतरा पैदा नहीं करते. उत्तर कोरिया ने पहले चेतावनी दी थी कि यदि उसे उकसाया जाएगा तो वह गुआम को निशाना बनाएगा.

व्हाइट हाउस प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा कि ट्रंप को इसकी जानकारी दी गई है और 'हम स्थिति पर नजर रख रहे हैं.' उत्तर कोरिया ने जुलाई में अमेरिकी मुख्य भूभाग तक पहुंच सकने में सक्षम दो अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों का प्रक्षेपण किया था. इसके बाद ट्रंप ने 'कड़ी जवाबी कार्रवाई' की चेतावनी दी थी.

लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस हफ्ते यह संकेत दिया था कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार कार्यक्रम के संबंध में उत्तर कोरिया के साथ कोई समझौता किया जा सकता है. उनकी यह टिप्पणी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन के उस बयान के बाद आई थी जिसमें उन्होंने कहा था कि उत्तर कोरियाई शासन की ओर से हाल के दिनों में कुछ संयम देखा गया है, 'जो अपने पहले नहीं देखा है.' टिलरसन ने उस वक्त उम्मीद जताई थी कि यह प्योंगयांग की ओर से उस संकेत की शुरुआत हो सकती है जिसकी अमेरिका को चाह है.

आज के मिसाइल प्रक्षेपणों के असफल हो जाने के बावजूद प्रायद्वीप में फिर से तनाव पैदा होने की आशंका है.

यह प्रक्षेपण उस वक्त किए गए हैं जब अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास चल रहा है. दोनों देशों का कहना है कि हर वर्ष होने वाला यह सैन्य अभ्यास रक्षात्मक दृष्टि से किया जा रहा है लेकिन प्योंगयांग इसे युद्ध की तैयारी और आक्रमण का पूर्वाभ्यास बता रहा है.

जुलाई में किए गए अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल प्रक्षेपणों के जवाब में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सर्वसम्मति से उत्तर कोरिया पर पांच अगस्त को नए प्रतिबंध लगा दिए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi