S M L

कुत्तों के चलते कानूनी पचड़े में फंसी साउथ कोरिया की पूर्व राष्ट्रपति

पार्क अपने कुत्तों को छोड़कर निजी आवास में शिफ्ट हो गईं है.

FP Staff | Published On: Mar 17, 2017 12:07 PM IST | Updated On: Mar 17, 2017 12:20 PM IST

0
कुत्तों के चलते कानूनी पचड़े में फंसी साउथ कोरिया की पूर्व राष्ट्रपति

अगर रॉयटर्स की एक रिपोर्ट की मानें तो, साउथ कोरिया की पूर्व राष्ट्रपति पार्क-गुन-हे के खिलाफ एक एनिमल राइट्स संस्था ने कुत्तों के साथ दुर्व्यवहार को लेकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है.

दरअसल, पार्क राष्ट्रपति पद से इस्तीफा देने के बाद रविवार को राष्ट्रपति आवास ब्लू हाउस को छोड़कर गंगनम के अपने निजी आवास में चली गई थीं. ब्लू हाउस में उनके पास 9 जिंडोस नस्ल (शिकारी कुत्ते जिंडोस अपनी वफादारी के लिए जाने जाते हैं) के कुत्ते थे, जिन्हें उन्होंने राष्ट्रपति आवास में ही रहने दिया.

इसी पर द बुसान कोरिया अलायंस फॉर द प्रिवेंशन ऑफ क्रुऐल्टी टू एनिमल्स नाम की संस्था पार्क के खिलाफ लामबंद हो गई.

इस एनिमल राइट्स संस्था ने अपने ट्विटर अकाउंट पर जानकारी दी कि उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति के खिलाफ जानवरों को लावारिस छोड़ने के आरोप में शिकायत दर्ज कराई है.

jindos dogs 2

जिंदोस कुत्ते.

इस शिकायत के दर्ज होने के बाद ब्लू हाउस ने इस बात को खारिज किया कि पार्क ने अपने कुत्तों को लावारिस छोड़ दिया है. हाउस की ओर से कहा गया कि पार्क उन कुत्तों को इसलिए छोड गईं थीं क्योंकि उन कुत्तों को उनके घर से दूर करना अच्छा नहीं होता.

ब्लू हाउस के प्रवक्ता किम डॉन्ग-जो ने कहा, ‘पूर्व राष्ट्रपति ने इन कुत्तों की अच्छी देखभाल करने को कहा है. उन्होंने इनके लिए एक बढ़िया सा फॉस्टर होम भी ढूंढने के लिए कहा है.’

पार्क जब 2013 में राष्ट्रपति आवास आईं थीं, तभी उनके पड़ोसियों ने उन्हें जिंडोस नस्ल के कुत्तों का एक जोड़ा तोहफे में दिया था. इस जोड़े ने इसी जनवरी में सात बच्चों को जन्म दिया था.

एक दूसरे एनिमल राइट्स ग्रुप, कोएक्जिस्टेंस ऑफ एनिमल राइट्स ऑन अर्थ ने भी इन कुत्तों को गोद लेने में दिलचस्पी जताई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi