S M L

किसी धर्म के खिलाफ नहीं, अमेरिका को महफूज रखने के लिए है यात्रा प्रतिबंध: सेशंस

कोर्ट ने कहा था कि ट्रंप ने अपने अधिकारों से बाहर जा कर मुस्लिम बहुल देशों की यात्रा पर प्रतिबंध लगाया है

Bhasha | Published On: Jun 14, 2017 07:59 PM IST | Updated On: Jun 14, 2017 07:59 PM IST

किसी धर्म के खिलाफ नहीं, अमेरिका को महफूज रखने के लिए है यात्रा प्रतिबंध: सेशंस

अमेरिका के अटॉर्नी जनरल जेफ सेशंस ने कहा है कि वीजा प्रतिबंध किसी धर्म के खिलाफ नहीं है बल्कि यह महज राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए है.

सेशन्स के इस बयान से पहले अमेरिका की एक अदालत राष्टपति ट्रंप के उस आदेश पर रोक लगाने वाले फैसले को बरकरार रख चुकी है, जिसमें 6 मुस्लिम बहुल देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगाया गया था.

'रोज पैदा हो रहा है आतंकियों से खतरा'

सेशंस ने कल एक बयान में कहा, 'राष्टपति ट्रंप जानते हैं कि जिस देश के लिए उन्हें चुना गया है, उसे चरमपंथी विचारधारा में यकीन रखने वाले आतंकियों से रोजाना खतरा पैदा हो रहा है. अमेरिकी इमीग्रेशन व्यवस्था में घुसपैठ करने के लिए सक्रिय रूप से षड्यंत्र रचे जाते हैं. 9/11 से पहले भी ऐसा ही हुआ था.' सेशन्स यात्रा प्रतिबंध पर यूएस कोर्ट ऑफ अपील्स फॉर नाइन्थ सर्किट की तीन जजों वाली बेंच के कल के फैसले पर प्रतिक्रिया दे रहे थे.

अधिकारों से बाहर जा कर ट्रंप ने लिया फैसला- कोर्ट

बेंच ने सर्वसम्मति से प्रतिबंध के खिलाफ फैसला सुनाते हुए कहा कि ट्रंप ने उन्हें मिले इमीग्रेशन पर नियंत्रण के अधिकारों को लांघते हुए इस फैसले पर दस्तखत किया है.

सेशंस ने कहा,  'राष्टपति हमारी सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं इसलिए न्याय विभाग सुप्रीम कोर्ट से इस आदेश की समीक्षा करवाएगा.' सेशन्स ने कहा कि राष्ट्रपति का शासकीय आदेश 'देश को सुरक्षित रखने के उनके अधिकार' के दायरे में है. उन्होंने कहा, 'हम इस अधिकार पर प्रतिबंध लगाने के नाइन्थ सकर्टि के फैसले से असहमत हैं.'

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi