S M L

कतर पर 'लगाम लगाने' के लिए मिस्र में अरब देशों की बैठक

सऊदी अरब सहित 4 अरब देश कतर पर आगे की रणनीति को लेकर बुधवार को चर्चा करेंगे

Bhasha | Published On: Jul 05, 2017 02:43 PM IST | Updated On: Jul 05, 2017 02:43 PM IST

0
कतर पर 'लगाम लगाने' के लिए मिस्र में अरब देशों की बैठक

कतर के साथ संबंध खत्म कर चुके सउदी अरब और उसके अरब सहयोगी बुधवार को खाड़ी संकट पर मिस्र में बातचीत करेंगे. कतर ने सउदी अरब और उसके सहयोगियों की मांगें मानने से इनकार करते हुए कहा था कि उनकी मांगें पूरी करना संभव नहीं हैं.

यूनाइटेड अरब एमीरेट्स (UAE), बहरीन और मिस्र समेत चार अरब देशों ने कतर पर चरमपंथियों का साथ देने का आरोप लगाया था जबकि कतर ने इन आरोपों से इंकार कर दिया था.

उनकी मांगें मानने के लिये 10 दिन का समय रविवार को खत्म हो गया था. इसके बाद उन्होंने कतर को उनकी आखिरी चेतावनी मानने के लिये 48 घंटे की मोहलत दी थी.

सउदी अरब ने बुधवार सुबह कहा कि उन्हें कतर की 'हरकत' का पता चल गया हैं और इसका वे 'सही समय' आने पर जवाब देंगे.

कतर के साथ राजनयिक और कारोबारी संबंध खत्म कर चुके चारों देशों के विदेश मंत्री सुबह 11 बजे काहिरा में मुलाकात करने वाले हैं.

कतर के विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल-थानी ने विवाद में मदद कर रहे कुवैत को सोमवार को जवाब भेजा था. हालांकि इसमें क्या लिखा है इसका खुलासा नहीं किया गया है.

कतर ने कहा- दबाव के आगे नहीं झुकेंगे हम

कतर ने कहा है कि अब वह दबाव के आगे नहीं झुकेगा. कतर के शेख मोहम्मद ने मंगलवार को कहा था कि चारों देशों की मांगें 'अवास्तविक और कार्रवाई लायक नहीं हैं.' उन्होंने कहा, 'इसका आतंकवाद से लेना-देना नहीं है, यह अभिव्यक्ति की आजादी को खत्म करने की बात करता है.'

सउदी और उनके सहयोगियों की मांगों में मुस्लिम ब्रदरहुड का समर्थन खत्म करना, अल जजीरा का प्रसारण बंद करना, ईरान के साथ राजनयिक संबंध सीमित करना और अमीरात में तुर्की का मिलिटरी बेस बंद करना शामिल है.

सउदी अरब और उसके समर्थकों ने कतर के साथ हवाई, समुद्री एवं जमीनी संपर्क समाप्त कर दिया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi