S M L

गुप्ता भाई चला रहे थे साउथ अफ्रीका की सरकार!

गुप्ता भाई और साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा के करीब 650 ईमेल सार्वजनिक किए गए

FP Staff | Published On: Jun 18, 2017 04:41 PM IST | Updated On: Jun 18, 2017 04:41 PM IST

0
गुप्ता भाई चला रहे थे साउथ अफ्रीका की सरकार!

साउथ अफ्रीका की मीडिया में इस वक्त सहारनपुर के तीन गुप्ता भाई सुर्खियां बने हुए हैं. 'गुप्तालीक्स' के नाम से जाने जा रहे एक खुलासे से तीन गुप्ता भाइयों पर साउथ अफ्रीका की सरकार चलाने का आरोप है.

मीडिया ने इस संबंध में गुप्ता भाई और साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा के करीब 650 ईमेल सार्वजनिक किए हैं. विकिलीक्स की तर्ज पर वहां की मीडिया ने इस खुलासे को गुप्तालीक्स नाम दिया है. सभी ईमेल गुप्ता भाई और राष्ट्रपति जैकब जुमा और उनके बेटे दुदुजेन से जुड़े हुए हैं.

साउथ अफ्रीका में चर्चित खबरों की मानें तो तीन गुप्ता भाई राजेश, अतुल और अजय गुप्ता को सरकारी ठेकों में फायदा पहुंचाया जा रहा था. सार्वजनिक उपक्रम वाली कंपनियों की खुफिया जानकारी गुप्ता भाइयों को दी जाती थी.

गुप्ता भाई साउथ अफ्रीका में खनन के बादशाह

लोकोमोटिव खरीद सौदे हासिल करने के लिए सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय में ब्रायन मेलेफे और इकबाल शर्मा की नियुक्ति करवाने का आरोप भी गुप्ता भाई और सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय के पूर्व मंत्री रहे मालुसी गिगाबा पर लगा है.

गुप्ता भाई साउथ अफ्रीका में खनन के बादशाह कहे जाते हैं. खनन मंत्री मोसेबेंजी जवाना के साथ भी उनके घनिष्ठ संबंधों को लेकर बड़े आरोप लगे हैं. वहीं राजस्व सेवा में भी गुप्ता भाइयों की धमक थी. साउथ अफ्रीका के सार्वजनिक संरक्षक बसिसिवे मीखवेन सारे मामलों की जांच कर रहे हैं.

इस सारे खुलासे के दौरान साउथ अफ्रीका की सार्वजनिक उद्यम की बड़ी कंपनी ट्रांसनेट भी आरोपों के घेरे में है. साउथ अफ्रीका की मीडिया के अनुसार राष्ट्रपति जुमा और उनके बेटे पर आरोप है कि उन्होंने यूएई में 500 मिलियन डाॅलर का एक घर खरीदा है. साथ ही यूएई की नागरिकता के लिए आवेदन भी किया है. जबकि राष्ट्रपति ने इस तरह की खबरों का खंडन किया है.

1993 में सहारनपुर से गए थे साउथ अफ्रीका

जानकारों की मानें तो राजेश, अतुल और अजय गुप्ता 1993 में सहारनपुर से साउथ अफ्रीका गए थे. उस दौरान वह वहां एक छोटे-मोटे व्यापारी हुआ करते थे. लेकिन धीरे-धीरे उनका राजनीतिक रसूख बढ़ता गया. संबंध ऐसे बढ़े कि राष्ट्रपति से घनिष्ठता भी हो गई.

इसी का फायदा उठाते हुए गुप्ता भाइयों ने खनन, रिएल स्टेट सहित दूसरे बड़े कामों में दखल देना शुरु कर दिया. इसका नतीजा ये निकला कि गुप्ता भाइयों को गुप्त रूप से बिना रोक-टोक बड़े-बड़े ठेके दिए जाने लगे. बताया जा रहा है कि गुप्ता भाई के कई नजदीकी रिश्तेदार अभी भी सहारनपुर में ही रह रहे हैं.

साभार न्यूज़ 18

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi