S M L

क्या सोचते हैं ट्रंप की नीतियों के बारे में गोरे अमेरिकी!

रेज एक्ट गैर अमेरिकी लोगों को अमेरिका में आने और उन्हें काम करने से रोकने के लिए पहले से बने कानूनी प्रावधानों को और कड़ा करने वाला बिल है

Nikhila Natarajan Updated On: Aug 15, 2017 04:00 PM IST

0
क्या सोचते हैं ट्रंप की नीतियों के बारे में गोरे अमेरिकी!

वह दूसरी पारी खेलेगा', मैंने जेसिका से कहा. जेसिका एक मिडिल स्कूल शिक्षक और योग की शौकीन हैं. मैरीलैंड के नजदीक एक ऐसे इलाके में रहती हैं जहां ज्यादातर गोरे अमेरिकी रहते हैं. यह इलाका टॉप रेटेड स्कूलों और प्रीमियम रियल एस्टेट के लिए मशहूर है.

शाम का वक्त था, हवा चल रही थी, उसी दिन ट्रंप ने अमेरिका की सीमाओं पर ड्रॉब्रिज बढ़ाने और अगले 10 सालों में नए आगमन को आधा करने का एलान किया था.

‘आप मेरी चिंता को बड़ा रहीं हैं... मेरे पति और मैं पहले से ही इस मुद्दे (ट्रंप) पर असहमत और अब आप मुझे यह कह रहीं हैं...’

जेसिका ने खाने के टेबल पर हाथ रखा और सोच में पड़ गईं. जैतून और एरगूला टॉपिंग वाला उनका पिज्जा अनछुआ रहा, उनकी चाय ठंडी हो गई थी.

मेरा ट्रम्पियन शौक के घोड़े ने उनके अंतर्मन को झकझोर दिया था. मैंने जेसिका से पूछा कि वह एक अमीर पड़ोस में एक सब-अमेरिकी सफेद निवासी के रूप में, परवाह क्यों करती है.

जेसिका के पति क्रिस ने ट्रंप को वोट नहीं दिया, हिलेरी को भी नहीं. वह लंदन और अमेरिका के बीच यात्रा करते हैं और जब लंदन वालों ने ट्रंप के बारे में पूछा, तो उन्होंने उनसे सादिक खान और शहर में बाइक लेन के बारे में पूछा, बस ‘मैं उनको कुछ भी चोट नहीं पहुंचाना चाहता था.’ मेरा सवाल बना रहा.

ट्रंप प्रेजिडेंसी के छह महीने बाद भी, श्वेत पड़ोस में शहरी अमरीकी निवासी ठोस वाक्य में ये नहीं कह पा रहें हैं कि ट्रंप के डॉग विस्सल से वह इतने नाखुश क्यों हैं?

‘यह हमारा राष्ट्रीय चरित्र नहीं है’ जेसिका के पति क्रिस ने बताया कि उनका आईटी क्लाउड आर्किटेक्चर में काम उन्हें एच1 बी वीजाधारी वर्कर्स के साथ रोजाना संपर्क में लाता है.

क्या उनके एच1बी टीममेट्स घबराए हुए हैं?

इस पर क्रिस कहते हैं, ‘वास्तव में, प्रबंधन चिंतित है. उनके पास चल रही परियोजनाएं हैं और ग्राहकों को किसी निश्चित कार्य प्रवाह की आदत पड़ जाती है. एच 1 बी मुद्दे को लेकर लगातार खतरे का माहौल हो तो बिजनेस के लिए मुश्किलें बढ़ जाती हैं.’

हम रेज एक्ट के बारे में बात करते हैं - वो लाल मांस का नया टुकड़ा जो ट्रंप ने अपने बेचैन वोट बैंक की ओर फेंक दिया है.

Washington : Inaugural attendees move through demonstrators attempting to block people entering a security checkpoint, Friday, Jan. 20, 2017, ahead of President-elect Donald Trump's inauguration in Washington. AP/PTI(AP1_20_2017_000324B)

यह 10 वर्षों के भीतर अमेरिका में कानूनी आव्रजन को आधे में स्लेश करने का प्रस्ताव है. ट्रंप देश में परिवार के सदस्यों को लाने के लिए कानूनी निवासियों की क्षमता को सीमित करके ऐसा करने की योजना बना रहें है.

यह हर साल कांग्रेस में पेश किए गए सैकड़ों बिलों में से एक है. ट्रंप इस बिल की प्रशंसा जोर शोर से कर रहें हैं जब वह अपने वोट बैंक को दिए किसी भी अन्य वादे को पूरा नहीं कर सके.

ट्रंप मौजूदा स्वास्थ्य सेवा कानून को रिपील नहीं कर सके - जो ओबामा के युग की विरासत है - क्योंकि ट्रंप के अपने ही पार्टी के लोगों ने इस कोशिश को मार गिराया .

रेज एक्ट के 40 पृष्ठों ने 6 व्यापक उपश्रेणियों में नीति चर्चा को बांटा है और व्याख्या भी की है - लेकिन इसके असंतोष का एजेंडा सरल है - अमेरिका के दरवाजे गैर-गोरे लोगों के लिए बंद करना.

रेज एक्ट यानी रिफॉर्मिंग अमेरिकन इमीग्रेशन फॉर स्ट्रांग एम्प्लॉयमेंट एक्ट गैर अमेरिकी लोगों को अमेरिका में आने और उन्हें काम करने से रोकने के लिए पहले से बने कानूनी प्रावधानों को और कड़ा करने वाला बिल है.इस एक्ट के तहत अमेरिका में बाहर से आने वाले लोगों को जो ग्रीन कार्ड दिया जाता था अब उसमें भारी कमी का प्रावधान है. अगर यह बिल पास हुआ तो लाटरी सिस्टम द्वारा हर साल सिर्फ 50 हजार लोगों को ही ग्रीन कार्ड मिलेगा.

विशेषज्ञों का तर्क होगा कि यह विधेयक अमेरिकी कांग्रेस में पारित करना कितना कठिन होगा.

लेकिन रेज एक्ट को पारित करने के बारे में किसने कहा?

ट्रंप का वादा कभी भी 'करने ' के बारे में नहीं रहा. अपनी रियल एस्टेट परियोजनाओं की तरह, ट्रंप की राजनीति लाइसेंस फीस मॉडल के आधार पर निर्भर है जिसके तहत ट्रंप दुनिया भर में प्रोजेक्ट चलाते हैं : मेरा नाम ले लो, मुझे बहुत पैसा दे दो, अपने आप को समृद्ध करें, मैं एक हार्ड टोपी पहनने और निर्माण स्थल पर खड़े नहीं होने जा रहा हूं.

ट्रंप न तो संरचनात्मक डिजाइन के लिए ज़िम्मेदार है और न ही निर्माण, वह अपने लाइसेंस शुल्क को पाकेट करते हैं और कट लेते हैं; बाकी का सिरदर्द बिल्डर जाने .

इसी तरह, ट्रंप की राजनीति व्यावहारिकता के बारे में नहीं है, यह गोरे पुरुषों की भावना के बारे में है.

ये वे गोरे पुरुष हैं जो आर्थिक दबाव में उलझे हुए हैं, खनन शहरों में जहां लोगों ने 2008 क्रैश के दौरान या बाद में अपनी नौकरियां गंवाई.

1930 के दशक के बाद से सबसे बड़ी आर्थिक पराजय के बाद बराक ओबामा प के दो कार्यकाल ने उन्हें आश्वस्त किया कि केवल एक सफेद व्यक्ति ही उनका नायक हो सकता है.

ओबामा 2008 के दुर्घटना का कारण नहीं थे लेकिन उन्होंने अमेरिका के मतदाताओं को गोरों के विशेषाधिकार के छिन जाने का आकलन करने के लिए एक स्थायी लैंडमार्क दे दिया.

ट्रंप सभी के लिए सब कुछ होने की दौड़ में नहीं हैं - लेकिन सिर्फ उन लोगों के लिए जो डेमोक्रेटिक वोट बैंक को अपने घुटनों तक ले आए हैं. न तो ओबामा और न ही डेमोक्रेटिक राष्ट्रपतियों ने पार्टी के लिए पतन शुरू किया.

1960 के दशक में सिविल अधिकार कानून के पारित होने के बाद से ही कार्यरत वर्ग के श्वेत वोटर डेमोक्रेटिक पार्टी को छोड़ने लगे .

ट्रंप मतदाताओं, जो अमेरिका को गैर-सफेद बहुमत वाले देश के रूप में देखना नहीं चाहते - वह ट्रंप के सबसे वफादार समर्थक हैं - अधिक चिंता मतलब अधिक समर्थन. तो, ट्रंप के खिलाफ प्रतिरोध क्या है? सफेद पुरुष. सफेद, शिक्षित पुरुष.

आइवी लीगर्स, करियर नौकरशाह, एक युद्ध नायक जो मस्तिष्क कैंसर से जूझ रहें है, जो ट्रंप के महत्वाकांक्षी ओबामाकेर रिपील कोशिश के खिलाफ वोट करने के लिए आधी रात को US कांग्रेस पहुंचे. जेम्स कोमी, रॉबर्ट मुलर, जॉन मैककेन.

ट्रंप ने इस ट्रेंड को समझ लिया है . इसलिए, ट्रंप अपने आधार का बचाव करने के लिए एक राइट विंगर को तैयार किया - ट्रम्पिज़्म को मुख्य धारा में लाने के लिए.

टॉम कॉटन, 40, ट्रंप के नए मैस्कॉट हैं, कस्टम आश्रित पहचान के साथ - आयोवा के एक मवेशी किसान के बेटे, हार्वर्ड लॉ ग्रेजुएट, इराक और अफगानिस्तान में सेवा किया हैं, एक सर्विंग सिनेटर भी हैं.

रेज एक्ट इस युवा राजनेता का पहला जहरीला तीर है. आखिरी नहीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi