S M L

इंदिरा नूई पर ट्रंप की बिजनेस एडवाइजरी पैनल से इस्तीफा देने का दबाव

नूई पर कलर ऑफ चेंज नाम के एक गैर-लाभकारी नस्लीय-न्याय समूह ने निशाना साधा है

FP Staff Updated On: Aug 16, 2017 10:33 PM IST

0
इंदिरा नूई पर ट्रंप की बिजनेस एडवाइजरी पैनल से इस्तीफा देने का दबाव

पेप्सी को की मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) इंदिरा नूई को कलर ऑफ चेंज नाम के एक गैर-लाभकारी नस्लीय-न्याय समूह ने कठघरे में खड़ा किया है. इस संस्था को उबर टेक्नोलॉजी इंक और वॉल्ट डिजनी कंपनी के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए भी जाना जाता है.

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा पिछले सप्ताह वर्जीनिया में भड़की नस्लीय हिंसा की आलोचना नहीं करने पर यह संस्था इंदिरा नूई पर राष्ट्रपति के बिजनेस सलाहकर परिषद से इस्तीफा देने को लेकर दबाव बना रही है. ग्रुप के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर रशद रॉबिन्सन ने कहा कि ट्रंप के एक और सलाहकार कैंपबेल सूप कंपनी के सीईओ डेनिस मॉरिसन को भी कैंपेन के जरिए निशाना बनाया जाएगा. ग्रुप का दावा है कि उसके ऑनलाइन सदस्यों की संख्या 10 लाख है.

रॉबिनसन ने मंगलवार को एक इंटरव्यू में कहा, 'हम पेप्सी को 24 घंटे पहले आगाह कर देना चाहते हैं कि हम उनका विरोध तेज करेंगे.' वो अपनी विविधता पर खुलकर बोलने वाली एक सार्वजनिक कंपनी है. इस व्यापार परिषद में उनकी भूमिका एक इनेबलर की है, और वो डोनाल्ड ट्रंप के इनेबलर हैं- यह न केवल नीतियां बल्कि उनके तरीकों से भी लोगों को नुकसान पहुंचा रहे हैं.'

सोमवार को जब से मर्क एंड कंपनी के सीईओ, अंडर आर्मर इंक. और इंटेल कार्पोरेशन के सीईओ ने जब से ट्रंप से मैन्युफैक्चरिंग काउंसिल से इस्तीफा दिया है तब से ट्रंप के व्यापार सलाहकारों पर दबाव बढ़ गया है. इस बीच, डॉव केमिकल कंपनी, जनरल मोटर्स कंपनी, जनरल इलेक्ट्रिक कंपनी और बोइंग कंपनी के सीईओ ने संकेत दिए हैं कि वो अपन पद पर बने रहेंगे. ट्रंप ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा कि उनके पास बहुत से लीडर हैं जो छोड़कर जाने वालों की जगह ले सकते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi