S M L

भारत भी साइबर अटैक का शिकार, एनएसए उपकरणों की मदद से हुआ हमला

वायरस प्रभावित कंप्यूटर को ‘अनलॉक’ करने के लिए यूजर से फिरौती की मांग की जाती है

Bhasha | Published On: May 13, 2017 11:55 PM IST | Updated On: May 17, 2017 09:02 AM IST

भारत भी साइबर अटैक का शिकार, एनएसए उपकरणों की मदद से हुआ हमला

अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) से चोरी किए गए ‘साइबर हथियारों’ का इस्तेमाल कर भारत समेत लगभग 100 देशों पर बड़े पैमाने पर साइबर हमले किए गए. इसे अब तक के सबसे बड़े साइबर अटैक के तौर पर देखा जा रहा है.

अमेरिका के मीडिया संस्थानों ने कहा कि सबसे पहले स्वीडन, ब्रिटेन और फ्रांस से साइबर हमले की खबर मिली. सुरक्षा सॉफ्टवेयर कंपनी ‘अवास्ट’ के अनुसार इस गतिविधि में शुक्रवार को बढ़ोतरी देखी गई.

कंपनी ने कहा कि कुछ घंटों के भीतर वैश्विक स्तर पर 75 हजार से अधिक हमलों का पता चला. इस बीच, मालवेरयरटेक ट्रैकर ने बीते 24 घंटों में 1 लाख से अधिक प्रभावित सिस्टम का पता लगाया है. स्पेन में दूरसंचार कंपनी ‘टेलीफोनिया’ समेत बड़ी कंपनियां इस हमले का शिकार हुई.

Cyber Attack

दुनिया के लगभग 100 देशों के कंप्यूटरों पर साइबर अटैक हुआ है (फोटो: फेसबुक से साभार)

सबसे विनाशकारी हमले ब्रिटेन में दर्ज किए गए जहां कंप्यूटर के डेटा तक नहीं पहुंच पाने के बाद अस्पतालों और क्लीनिकों को मरीजों को वापस भेजना पड़ा.

‘कैसपरस्काई लैब’ से संबंधित सुरक्षा शोधकर्ताओं ने ब्रिटेन, यूक्रेन, भारत, चीन, चीन, इटली और मिस्र सहित 99 देशों में 45 हजार से अधिक साइबर हमलों को रिकॉर्ड किया है. इससे पहले, गृह सुरक्षा विभाग के तहत अमेरिका कंप्यूटर इमरजेंसी रेडीनेस टीम (यूएससीईआरटी) ने कहा कि उसे दुनिया भर के कई देशों में ‘वॉनाक्राई रैनसमवेयर इंफेक्शन’ की कई खबरें मिली हैं.

कंप्यूटर अनलॉक करने के लिए फिरौती मांगी जाती है

रैनसमवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जिससे एक कंप्यूटर में वायरस घुस जाता है. यूजर तब तक इसे खोल नहीं पाता जब तक कि वह इसे ‘अनलॉक’ करने के लिए रैंसम (फिरौती) नहीं देता.

यूएससीईआरटी ने कहा कि व्यक्ति और संगठनों से फिरौती नहीं देने की अपील की जाती है. इसकी वजह यह है कि इसके बाद भी यह गारंटी नहीं है कि वह अपने कंप्यूटर को खोल पाएंगे.

इसके अनुसार जब कोई सॉफ्टवेयर पुराना होता है या फिर ‘अनपैच्ड’ (सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण ताजा कंप्यूटर प्रोग्राम से विहीन) होता है तो रैनसमवेयर उस पर आसानी से हमला कर सकता है.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi