S M L

पीएम मोदी: सर्जिकल स्ट्राइक ने साबित की भारत की ताकत

पीएम ने कहा, सर्जिकल स्ट्राइक से यह साबित हुआ कि देश जरूरत पड़ने पर अपनी रक्षा कर सकता है

Bhasha Updated On: Jun 26, 2017 09:50 AM IST

0
पीएम मोदी: सर्जिकल स्ट्राइक ने साबित की भारत की ताकत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत दुनिया को आतंकवाद की बुराई को जड़ से समाप्त करने की जरूरत के बारे में समझाने में सफल रहा है. नियंत्रण रेखा के पार किए गए सर्जिकल स्ट्राइक से यह साबित हुआ कि देश जरूरत पड़ने पर अपनी रक्षा कर सकता है.

मोदी ने वर्जीनिया के टायसन कार्नर स्थित रित्ज कार्लटन में आयोजित एक सामुदायिक स्वागत कार्यक्रम में कहा, 'भारत जब 20 वर्ष पहले आतंकवाद की बात करता था तो विश्व में कई यह कहते थे कि यह कानून और व्यवस्था की समस्या है और इसे समझते नहीं थे. अब आतंकवादियों ने उन्हें आतंकवाद समझा दिया है और इसलिए हमें यह करने की जरूरत नहीं है.'  उन्होंने कहा कि भारत विश्व को आतंकवाद को समूल नष्ट करने की जरूरत के बारे में बताने में सफल रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने गत तीन वर्षो में अपनी सरकार की उपलब्धियां रेखांकित करते हुए कहा, 'जब भारत ने सजर्किल स्ट्राइक की तो दुनिया ने हमारी ताकत का अनुभव किया और यह महसूस किया कि भारत संयम बरतता है लेकिन जरूरत पड़ने पर ताकत भी दिखा सकता है.' उल्लेखनीय है कि भारत ने गत वर्ष उरी हमले के बाद 29 सितम्बर को नियंत्रण रेखा के पार आतंकवादी ठिकानों पर सर्जिकल हमला किया था.

मोदी ने कहा कि भारत आतंकवाद का पीड़ित रहा है लेकिन 'विश्व ने हमें रोका नहीं और वह हमें रोक नहीं सकता. हम विश्व को भारत पर होने वाले आतंकवाद के हानिकारक प्रभावों के बारे में बताने में सफल रहे हैं.' उन्होंने परोक्ष रूप से चीन पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत वैश्विक व्यवस्था का पालन करने में विश्वास करता है.

मोदी ने कहा कि भारत वैश्विक नियमों का पालन किए बिना अपने लक्ष्यों को हासिल करने में विश्वास नहीं रखता.

जाहिर तौर पर दक्षिण चीन सागर में चीन के प्रभुत्व जमाने की कोशिशों के संदर्भ में प्रधानमंत्री ने कहा भारत ने हमेशा वैश्विक व्यवस्था और कानून के शासन के दायरे में विकास का रास्ता अपनाया है.

उन्होंने कहा, 'यही भारत की परंपरा और संस्कृति है.'

भारत की वृद्धि अमेरिका के लिए भी फायदेमंद

इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की शीर्ष कंपनियों के प्रमुखों से भारत में निवेश करने का आहवान करते हुए आज कहा कि भारत अब एक कारोबार हितैषी देश के रूप में उभरा है. मोदी ने देश में अगले महीने से लागू होने जा रही गुड्स एंड सर्विसेज (जीएसटी) प्रणाली को कारोबार में सुगमता के लिए परिवर्तन लाने वाला बताया.

मोदी ने अमेरिका की 20 शीर्ष कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) के साथ बैठक में कहा कि पिछले तीन साल में सरकार की नीतियों के चलते भारत ने सबसे ज्यादा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को आकर्षित किया है.

मोदी ने करीब 90 मिनट की बैठक के बाद ट्वीट किया, 'शीर्ष सीईओ के साथ बातचीत की. हमने भारत में अवसरों को लेकर व्यापक चर्चा की.'

इस बैठक में ऐपल के टिम कुक, गूगल के सुंदर पिचाई, सिस्को के जॉन चैंबर्स और अमेजन के जेफ बेजोस मौजूद थे. मोदी ने अपनी सरकार की ओर से पिछले तीन साल में उठाए गए और निकट भविष्य में उठाए जाने वाले कदमों के बारे में जानकारी दी.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने एक ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी के हवाले से कहा, 'सारी दुनिया भारत की ओर देख रही है. भारत सरकार ने 7000 सुधार अकेले कारोबार सुगमता और न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन के लिए किए हैं.'

बागले के अनुसार मोदी ने कंपनी प्रमुखों से कहा कि भारत की वृद्धि उसके और अमेरिका दोनों के लिए फायदेमंद हैं. अमेरिकी कंपनियों के सामने इसमें योगदान देने का एक अच्छा अवसर है.

मोदी ने कहा, 'जीएसटी को लागू किये जाने का ऐतिहासिक फैसला अमेरिका के बिजनेस स्कूलों में अध्ययन का विषय हो सकता है.'

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi