S M L

सोशल मीडिया का आतंकी कनेक्शन: पाक से ऑपरेट हो रहे कई ग्रुप और फेसबुक पेज

डॉन ने अप्रैल 2017 में आतंकी संगठनों की पड़ताल की

FP Staff | Published On: May 30, 2017 03:49 PM IST | Updated On: May 30, 2017 04:56 PM IST

सोशल मीडिया का आतंकी कनेक्शन: पाक से ऑपरेट हो रहे कई ग्रुप और फेसबुक पेज

भारत में पठानकोट हमले सहित कई आतंकवादी हमलों में पाकिस्तान का नाम सामने आने के बाद वह वैश्विक स्तर पर अलग-थलग पड़ा हुआ है. पाकिस्तान की नवाज शरीफ सरकार ने आतंकी संगठनों के खिलाफ सैन्य कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. लेकिन, ये संगठन अब भी फेसबुक पर एक्टिव हैं और लोगों को जोड़ रहे हैं.

पाकिस्तान की न्यूज वेबसाइट डॉन ने अप्रैल 2017 में आतंकी संगठनों की पड़ताल की. इसमें खुलासा हुआ कि प्रतिबंधित 64 आतंकवादी संगठनों में से 41 फेसबुक पर सक्रिय हैं. इनमें से कुछ ग्रुप, कुछ इंडविजुअल और कुछ खुले तौर पर सोशल नेटवर्किंग साइट्स का इस्तेमाल कर रहे हैं. इससे साफ तौर पर मालूम होता है कि वहां अब भी सांप्रदायिक और अतिवादी विचारधारा को खुला समर्थन मिल रहा है.

पाकिस्तान, बलूचिस्तान और सिंध से हो रहे हैं ऑपरेट

इन आतंकवादी संगठनों में सुन्नी और शिया दोनों सांप्रदायिक संगठनों के लोग जुड़े हैं. इन वैश्विक आतंकी संगठनों में कुछ को पाकिस्तान से संचालित किया जा रहा है तो कुछ को बलूचिस्तान और सिंध के अलगाववादी ऑपरेट करते हैं.

स्पेलिंग में बदलाव करके भी चला रहे हैं संगठन

यह भी सामने आया है कि आतंकवादी संगठन संक्षिप्त नाम और अपने नाम की स्पेलिंग में थोड़ा बहुत बदलाव करके फेसबुक पर एक्टिव हैं. इन आतंकवादी संगठनों की साइज का अंदाजा सोशल साइट पर मौजूद पेज की संख्या से लगाया जा सकता है.

आंतकी संगठन और पेज-ग्रुप

> अहले सुन्नत वाल जामा (एएसडब्लू) के 200 पेज और ग्रुप हैं. > जीय सिंध मुत्ताहिदा महाज (जेएसएमएम) के 160 पेज और ग्रुप हैं. > सिपाह-ए-सहाबा (एसएसरपी) के 148 पेज और ग्रुप हैं. > बलूचिस्तान स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशन आजाद (बीएसओ-ए) के 54 पेज और ग्रुप हैं. > सिपाह-ए- मुहम्मद के 45 पेज और ग्रुप हैं.

कुछ छोटे स्केल में भी मौजूद हैं

वहीं, दूसरे बैन आतंकी संगठन फेसबुक पर छोटे स्केल में मौजूद हैं. इनमें लश्कर-ए-झांगवी (एलईजी), तहरीक-ए-तालीबान पाकिस्तान (टीटीपी), तहरीक-ए-तालिबान स्वात, तहरीक-ए-निफाज-ए-शरीयत-ए-मोहम्मदी, जमात-उल-अहरार, 313 ब्रिगेड, कई शिया संगठन और बलूच अलगाववादियों के संगठन शामिल हैं.

(साभार- न्यूज 18)

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi