S M L

यूएस कोर्ट ऑफ अपील में जज बने भारतीय मूल के अमूल थापर

ट्रंप प्रशासन द्वारा नॉमिनेट किए गए थापर के नाम पर अमेरिकी सीनेट भी बगैर रोकटोक के मुहर लगा देगी

Bhasha Updated On: Mar 21, 2017 05:24 PM IST

0
यूएस कोर्ट ऑफ अपील में जज बने भारतीय मूल के अमूल थापर

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारतीय मूल के अमूल थापर को यूएस कोर्ट ऑफ अपील में जज अप्वाइंट किया है. 47 साल के थापर 2007 में केंटकी के डिस्ट्रिक जज बनाए गए थे. तब वो इस ओहदे पर पहुंचने वाले पहले दक्षिण एशियाई थे.

हालांकि, नई जिम्मेदारी के लिए अभी थापर के नाम को सीनेट की मंजूरी जरूरी होगी. विपक्ष ने भी थापर को नॉमिनेट किए जाने के फैसले का स्वागत किया है.

बिना किसी रोकटोक के मुहर

ट्रंप सरकार ने सोमवार रात थापर को नॉमिनेट किए जाने का एलान किया. उनके नाम पर सीनेट मुहर लगाकर आखिरी फैसला करेगी. चुनाव कैंपेन के दौरान ट्रंप ने सुप्रीम कोर्ट के लिए जिन 20 जजों की सूची जारी की थी, उसमें भी थापर का नाम था.

माना जा रहा है सीनेट भी थापर के नाम पर बिना किसी रोकटोक के मुहर लगा देगी. इसकी वजह ये है कि सीनेट में मेजॉरिटी लीडर मिच मैककोनेल पहले ही ट्रंप के फैसले का स्वागत कर चुके हैं.

Donald Trump

(फोटो: रॉयटर्स)

राष्ट्रपति ट्रंप का बेहतरीन फैसला

मिच मैककोनेल ने कहा, 'थापर का अब तक का करियर बेहतरीन रहा है. उन्होंने कानून के लिए बहुत बेहतर फैसले लिए और उनका डेडिकेशन काबिले तारीफ है. थापर का उनके सहयोगी बहुत सम्मान करते हैं. मुझे पूरा भरोसा कि जिस तरह की काबिलियत उन्होंने बतौर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट जज के तौर पर दिखाई है, वही आगे भी कायम रहेगी.'

मैककोनेल ने आगे कहा, 'राष्ट्रपति ट्रंप ने थापर को नॉमिनेट कर बेहतरीन फैसला किया है, मुझे यकीन है कि सीनेट इस पर मुहर जरूर लगाएगी.'

आम तौर पर ट्रंप का विरोध करने वाले साउथ एशियन बार एसोसिएशन ऑफ नाॅर्थ अमेरिका (एसएबीए) ने भी ट्रंप के फैसले का स्वागत किया है. इसके अध्यक्ष विचल कुमार ने एक बयान जारी कर कहा, 'थापर का अमेरिका की ज्यूडिशियरी में बहुत सम्मान है. हम प्रेसिडेंट के फैसले के साथ हैं.'

सख्त छवि वाले जज हैं थापर

अमूल थापर के नाम पर सीनेट की मुहर लगने के बाद वो यूएस 6वें सर्किट कोर्ट ऑफ अपील के जज होंगे. अमेरिकी न्यायपालिका के लिहाज से ये बहुत अहम जिम्मेदारी है. चुनाव कैंपेन में जब ट्रंप ने थापर का नाम आगे किया था तो उनके विरोधियों को भी हैरानी हुई थी. थापर की छवि कठोर जज के तौर पर है.

अगर वो यूएस 6वें कोर्ट ऑफ अपील में जज बनते हैं तो उनके पास केंटकी, टैनेसी, ओहायो और मिशिगन राज्यों की सुनवाई के अधिकार होंगे. अमूल अटॉर्नी जनरल्स एडवाइजरी में भी रह चुके हैं. इसके अलावा वो नेशनल सिक्युरिटी सब-कमेटी में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi