S M L

'चीन को कमजोर करने के लिए भारत को दलाई लामा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए'

भारत को तिब्बत संबंधी मुद्दों पर प्रतिबद्धता का पालन करना चाहिए.

FP Staff | Published On: Apr 17, 2017 03:56 PM IST | Updated On: Apr 17, 2017 03:56 PM IST

'चीन को कमजोर करने के लिए भारत को दलाई लामा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए'

चीन ने दलाई लामा की हालिया अरूणाचल प्रदेश यात्रा के कारण भारत-चीन के संबंधों पर ‘नकारात्मक असर’ पड़ने की बात कही है.

चीन ने ये भी कहा है कि भारत को तिब्बती अध्यात्मिक नेता का इस्तेमाल बीजिंग के हितों को ‘कमजोर’ करने के लिए नहीं करना चाहिए.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा, 'दलाई लामा की अरूणाचल प्रदेश यात्रा का भारत और चीन के संबंधों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है.'

'भारत को तिब्बत संबंधी मुद्दों पर प्रतिबद्धता का पालन करना चाहिए और चीन के हितों को कमजोर करने के लिए दलाई लामा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.'

उन्होंने कहा कि केवल यही एक रास्ता है जिसके जरिए 'हम सीमा के सवाल को सुलझाने के लिए अच्छा माहौल तैयार कर सकते हैं.'

चीन के प्रवक्ता की यह टिप्पणी शुक्रवार को भारतीय विदेश मंत्रालय के जवाब की पृष्ठभूमि में आयी है जिसमें कहा गया था कि तिब्बत के चीन का हिस्सा होने के संबंध में नयी दिल्ली की स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले कह चुके हैं कि भारत बरसों से लंबित सीमा मुद्दे का आपसी रूप से स्वीकार्य और न्यायोचित समाधान की तलाश जारी रखेगा.

दलाई लामा चार से 11 अप्रैल तक अरूणाचल प्रदेश के दौरे पर आए हुए थे.

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi