S M L

बेकाबू ईरान दूसरा उत्तर कोरिया बन सकता है: अमेरिका

ईरान की परमाणु महत्वाकांक्षा अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा है

Bhasha | Published On: Apr 20, 2017 06:49 PM IST | Updated On: Apr 20, 2017 06:49 PM IST

बेकाबू ईरान दूसरा उत्तर कोरिया बन सकता है: अमेरिका

अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलर्सन ने ओबामा के समय में ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते को एक विफलता करार देते हुए कहा है कि ‘अनियंत्रित’ ईरान दूसरा उत्तर कोरिया हो सकता है, लेकिन वह यह कहते कहते रूक गए कि इस ऐतिहासिक समझौते को कोई खतरा है.
टिलर्सन ने कहा कि अमेरिका ईरान पर अपनी नीति की व्यापक समीक्षा कर रहा है. उन्होंने कहा कि ओबामा के समय में हुआ परमाणु समझौता तेहरान के परमाणु संपन्न बनने की गति को थोड़ा धीमा करता है.
ईरान की परमाणु योजना पर लगाम लगाने की कोशिश 
 
आनन-फानन में बुलाई गई एक प्रेस वार्ता में बुधवार को उन्होंने कहा कि यह समझौता उसी तरह से विफल हुआ है जिस तरह से हम मौजूदा दौरा में उत्तर कोरिया से खतरे का सामना कर रहे हैं. ट्रंप प्रशासन की मंशा ईरान के मामले की जिम्मेदारी भावी प्रशासन पर छोड़ने की नहीं है.
उन्होंने कहा कि ईरान की परमाणु महत्वाकांक्षा अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा है.
टिलर्सन का कल लिया गया यह कड़ा रूख ट्रंप प्रशासन के कांग्रेस को यह बताने के एक दिन बाद आया है कि तेहरान 2015 में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा परमाणु समझौते पर की गई वार्ता का पालन कर रहा है जो इस्लामिक गणराज्य की परमाणु क्षमता को सीमित करने के बाबत है.
प्रशासन ने कहा कि इसने अपने परमाणु कार्यक्रम पर नियंत्रण लगाने के बदले में ईरान पर लगे प्रतिबंधों में दी जाने वाली राहत को बढ़ा दिया है.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi