S M L

500-1000 के नोट बंद! जानिए सुरक्षित इंटरनेट बैंकिंग के टिप्स

आज देश नोटों की कमी से जूझ रहा है. ऐसे में इंटरनेट बैंकिंग अच्छा विकल्प है...

FP Staff Updated On: Nov 12, 2016 03:00 PM IST

0
500-1000 के नोट बंद! जानिए सुरक्षित इंटरनेट बैंकिंग के टिप्स

आज पूरा देश नोटों की कमी से जूझ रहा है. ऐसे में कुछ जरूरतों के लिए इंटरनेट बैंकिंग अच्छा विकल्प है. बिल भुगतान करना हो, पैसे ट्रांसफर करना हो या फिक्स्ड डिपॉज़िट का मामला हो, इंटरनेट बैंकिंग इनके लिए सुविधाजनक तरीका है और साथ ही टाइम की बचत होती है सो अलग. लेकिन इंटरनेट बैंकिंग में ऑनलाइन फ्रॉड का खतरा रहता है.

इंटरनेट बैंकिंग इस्तेमाल करते समय ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचाव के लिए अपनी बैंकिंग जानकारी को गोपनीय बनाए रखना जरूरी है. जानिए कुछ ऐसी टिप्स दी जा रही हैं जिनसे आप बेफिक्र सुरक्षित इंटरनेट बैंकिंग कर सकते हैं:

नेट बैंकिंग से जुड़ी जानकारी साझा ना करें

ध्यान रखें, बैंक कभी भी आपके एटीएम पिन, जन्मतिथि जैसी गोपनीय और निजी जानकारी की सूचना फोन या ईमेल के जरिए नहीं पूछता है. इसलिए अगर आपको बैंक से ऐसा कोई फोन या ईमेल मिले तो कभी कोई जानकारी साझा न करें. अपनी लॉगइन आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल बैंक के आधिकारिक लॉगइन पेज पर ही करें और यह एक सुरक्षित वेबसाइट होनी चाहिए. चेक कर लें कि यूआरएल में 'https://'लिखा हो, इसका मतलब है कि वेबसाइट सिक्योर है.

अपना पासवर्ड नियमित तौर पर बदलते रहें

जरूरी है कि सुरक्षित नेट बैंकिंग के लिए थोड़े-थोड़े समय बाद पासवर्ड बदलते रहें और अपने पासवर्ड को हर बार सीक्रेट रखें. पासवर्ड को कहीं ऑनलाइन मोड में स्टोर न करें.

अपने सेविंग अकाउंट को लगातार चेक करते रहें

किसी भी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के बाद अपना अकाउंट जरूर चेक करके सुनिश्चित करें कि आपके अकाउंट से उचित राशि ही निकाली गई है. अगर आपको इस राशि में कोई गड़बड़ी लगती है तो तुरंत अपने बैंक को सूचित करें.

सार्वजनिक कंप्यूटर पर कभी लॉगइन न करें

जहां तक संभव हो, साइबर कैफे या लाइब्रेरी जैसी सार्वजनिक जगहों के कंप्यूटर पर बैंक अकाउंट लॉगइन करने से बचें. अगर ऐसी जगहों से लॉगइन करते हैं तो कंप्यूटर से कैश और ब्राउज़िंग हिस्ट्री व टेंपरेरी फाइल डिलीट करना न भूलें. लॉगइन करते समय ब्राउज़र में 'रिमेंबर आईडी एंड पासवर्ड' पर क्लिक न करें.

हमेशा लाइसेंस वाले एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करें

कंप्यूटर को नए वायरस से बचाने के लिए हमेशा लाइसेंस वाले एंटी वायरस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करें. पायरेटेड वर्जन मुफ्त में तो मिल जाते हैं लेकिन ये आपके कंप्यूटर को नए वायरस से बचाने में नाकाम साबित होते हैं.

हमेशा इंटरनेट बैंकिंग यूआरएल टाइप करें

इंटरनेट बैंकिंग के सुरक्षित इस्तेमाल के लिए जरूरी है कि ब्राउजर के एड्रेस बार में जाकर अपने बैंक का यूआरएल टाइप करें. कभी भी ईमेल में भेजे गए लिंक पर क्लिक न करें.

पीसी इस्तेमाल न करते समय इंटरनेट कनेक्शन बंद कर दें

साइबर हैकर्स इंटरनेट कनेक्शन के जरिए भी आपके कंप्यूटर में एक्सेस कर आपकी गोपनीय बैंकिंग जानकारी चुरा सकते हैं. अपने डेटा को सुरक्षित रखने के लिए जरूरी है कि जब आपको जरूरत ना हो तो इंटरनेट डिसकनेक्ट कर दें. इसके साथ ही जरूरी है कि समय-समय अपने पीसी को अपडेट करते रहें ताकि सुरक्षित ऑनलाइन बैंकिंग का अनुभव खराब न हो.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi