S M L

'ऑनलाइन टेरर कंटेंट' को मिलकर रोकेंगे गूगल, फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब

आतंकवाद से मुकाबले के लिए वैश्विक इंटरनेट मंच 'ग्लोबल इंटरनेट फोरम टू काउंटर टेररिज्म' मिलकर काम करेगा

Bhasha | Published On: Jun 27, 2017 10:35 PM IST | Updated On: Jun 27, 2017 10:35 PM IST

0
'ऑनलाइन टेरर कंटेंट' को मिलकर रोकेंगे गूगल, फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब

इंटरनेट पर 'टेरर कंटेंट' के प्रचार-प्रसार को रोकने के लिए फेसबुक, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, ट्विटर और यूट्यूब ने आतंकवाद विरोधी भागीदारी शुरू करने की घोषणा की है. कंपनियों का कहना है कि आतंकवाद से मुकाबले के लिए वैश्विक इंटरनेट मंच 'ग्लोबल इंटरनेट फोरम टू काउंटर टेररिज्म' मिलकर काम करेगा और उपभोक्ता सेवाओं को आतंकवादियों एवं हिंसक चरमपंथों से मुक्त रखने के लिए इंजीनियरिंग, अनुसंधान और ज्ञान साझा करेगा.

ट्विटर ने टेरर कंटेंट को बताया वैश्विक समस्या

हर प्रौद्योगिकी कंपनी अपने मंचों या सेवाओं से चरमपंथी विचारधाराओं का प्रसार रोकने के लिए अपने अपने स्तर पर काम कर रही हैं. ट्विटर के नीति संबंधी ब्लॉग पर पोस्ट किए गए संयुक्त बयान में कहा गया, आतंकवाद एवं हिंसक चरमपंथ का प्रसार एक बढ़ती वैश्विक समस्या है. यह हमारे लिए एक गंभीर चुनौती है.

ट्विटर का कहना है,  हमारा मानना है कि एकसाथ मिलकर काम करने, बेहतर से बेहतर प्रौद्योगिकी और हमारे निजी प्रयासों के उपयोगी तत्व साझा करने से ऑनलाइन आतंकवादी सामग्री के खतरे के खिलाफ हम अधिक से अधिक प्रभाव डाल सकते हैं. कंपनियों के मुताबिक यूरोप में हुई चर्चा और हाल में सम्पन्न हुए जी-7 तथा यूरोपीय परिषद में चर्चा के निष्कर्षो बाद इस नए मंच का निर्माण किया गया. इस मंच की छोटी प्रौद्योगिकी कंपनियों के साथ-साथ नागरिक समूहों, शैक्षणिक संस्थानों और सरकारी संस्थाओं की भी साथ काम करने की योजना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi