S M L

वनप्लस 3टी की भारी मांग, चीन की बजाय अब भारत में ही बनेगा

वनप्लस प्रीमियम फोन सेगमेंट में तीसरी सबसे ज्यादा फोन बेचने वाली कंपनी है.

Kunal Khullar | Published On: Dec 23, 2016 02:44 PM IST | Updated On: Dec 24, 2016 02:50 PM IST

वनप्लस 3टी की भारी मांग, चीन की बजाय अब भारत में ही बनेगा

मोबाइल कंपनी वनप्लस के लिए यह साल शानदार रहा. पहले उसके स्मार्टफोन वनप्लस 3 ने धूम मचाई और अब उसका नया शाहकार वनप्लस 3टी हाथों हाथ लिया जा रहा है.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने हाल में खबर दी कि वनप्लस 3 और वनप्लस 3टी की डिमांड इस कदर ज्यादा है कि यह चीनी मोबाइल कंपनी भारत में अपना प्लांट लगाकर यहीं वनप्लस 3टी बनाने के बारे में सोच रही है.

वनप्लस इंडिया के जनरल मैनेजर विकास अग्रवाल ने रॉयटर्स को बताया, 'असल में स्टॉक खत्म हो जाने की वजह से हमने शायद अपनी 30 फीसदी सेल गंवा दी है. हम मांग को पूरा करने के लिए अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं.'

हालांकि कंपनी तो इस बारे में ज्यादा कुछ नहीं कह रही है कि उसने कितने फोन बेचे हैं, लेकिन टेक्नोलोजी रिसर्च संस्था आईडीसी का कहना है कि वनप्लस भारत में 20 हजार या उससे ऊपर की कीमत वाले प्रीमियम फोन सेगमेंट में तीसरी सबसे ज्यादा फोन बेचने वाली कंपनी है.

पहले स्थान पर सैमसंग और फिर उसके बाद ओपो है. वनप्लस की दुनिया भर में होने वाली सेल का लगभग एक तिहाई हिस्सा भारत से है. ऐसे में अगर कंपनी भारत में अपने फोन तैयार करने का फैसला लेती हैं तो इसमें किसी को हैरानी नहीं होनी चाहिए.

मेक इंडिया से जुड़ेगी वनप्लस?

वनप्लस के प्रतिनिधियों के अनुसार कंपनी ने अभी किसी प्लांट को फाइनल नहीं किया लेकिन इस बारे में चीनी और भारतीय टीमों के बीच चर्चा चल रही है. वनप्लस ने इसी साल भारत में फोन बनाने के लिए फॉक्सकॉन के साथ हुए करार को खत्म कर दिया. कंपनी ने वनप्लस एक्स फोन बनाना बंद करने के लिए फैसले के तहत यह कदम उठाया. इस बात की भी संभावना है कि कंपनी फॉक्सकॉन के साथ नई डील कर सकती है, लेकिन उसका यह भी कहना है कि हैंडसेट बनाने वाली दूसरी कपनियों के लिए भी उसके दरवाजे खुले हैं, बशर्ते वे क्वॉलिटी बनाए रखने में सक्षम हों.

वनप्लस बेंगलुरु में तथाकथित एक्सपीरियंस सेंटर भी खोलने की योजना बना रही है जहां आकर ग्राहक वनप्लस के स्मार्टफोन देख सकते हैं. मेरी निजी राय है कि कंपनी को इससे कोई खास फायदा नहीं होगा, बल्कि उसे अपनी सेल्स के माध्यम बढ़ाने चाहिए. इसके लिए और ज्यादा ऑनलाइन पार्टनर बनाए जा सकते हैं और फोन को ऑफलाइन सेलर्स के पास भी भेजा जा सकता है.

बेशक इसके स्मार्टफोन्स की अच्छी सप्लाई की जरूरत होगी. अगर वनप्लस के फोन भारत में बनाए जाते हैं तो इससे न सिर्फ ग्राहकों की मांग पूरी करने में मदद मिलेगी बल्कि उसकी स्वीकार्यता भी बढ़ेगा. यह भी उन बहुत सारी अंतरराष्ट्रीय कंपनियों में शामिल हो जाएगी जो मेक इंडिया पहल से जुड़ी हैं.

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi