S M L

गूगल की लैंगिक पॉलिसी पर सवाल, नौकरी देने में जेंडर पक्षपात करता है गूगल?

गूगल में 69 फीसदी पुरुष और 2 फीसदी ही महिलाएं हैं. टेक्नीकल जॉब में सिर्फ 20 फीसदी महिलाएं हैं.

FP Staff Updated On: Aug 08, 2017 01:28 PM IST

0
गूगल की लैंगिक पॉलिसी पर सवाल, नौकरी देने में जेंडर पक्षपात करता है गूगल?

दुनिया की सबसे बड़ी टेक कंपनी गूगल की 'लैंगिक पॉलिसी' पर सवाल खड़े हो रहे हैं. कंपनी पर कर्मचारियों के साथ लैंगिक आधार पर भेदभाव करने का आरोप लगा है. यह आरोप गूगल के ही एक पूर्व कर्मचारी ने लगाया है. इसके बाद 'गूगल एंड डाइवर्सिटी' सोशल मीडिया पर ट्रेंड में है. सिलिकॉन वैली में लैंगिक आधार पर भेदभाव का मुद्दा गर्मा गया है.

क्या है पूरा मामला

दरअसल, गूगल के इंजीनियर जेम्स डामोरे ने एक इंटरनल मेमो लिखा था. इसमें कंपनी के भीतर 'लैंगिक रूढ़ियां' बरकरार होने की बात कही गई. डामोरे का कहना था कि कंपनी के अंदर कर्मचारियों के साथ जेंडर के आधार पर भेदभाव होता है. डामोरे का यह नोट तेजी से कर्मचारियों के बीच सर्कुलेट होने लगा. गूगल ने जेम्स डामोर को नौकरी से निकाल दिया और इसके बाद ये नोट सार्वजनिक हो गया.

ब्लूमबर्ग के मुताबिक, डामोरे ने आरोप लगाया है कि गूगल ने जेंडर पक्षपात को बरकरार रखने के लिए उन्हें नौकरी से निकाला है. गूगल के सीईओ सुंदर पिच्चई का कहना है कि डामोरे ने कंपनी के कोड एंड कन्डेक्ट का उल्लंघन किया है. गार्जियन के मुताबिक, गूगल में 69 फीसदी पुरुष और 2 फीसदी ही अफ्रीकन अमेरिकन महिलाएं हैं. 20 फीसदी टेक्नीकल जॉब में ही महिलाएं हैं.

[न्यूज़ 18 इंडिया से साभार]

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi