S M L

नोटबंदी: कैशलेस भुगतान पर साइबर अटैक का खतरा, चेतावनी जारी

एजेंसियों मे चेताया है कि एटीएम, माइक्रो-एटीएम व पीओएस पर सुरक्षा का खतरा है.

FP Staff | Published On: Dec 05, 2016 09:47 AM IST | Updated On: Dec 05, 2016 09:47 AM IST

0
नोटबंदी: कैशलेस भुगतान पर साइबर अटैक का खतरा, चेतावनी जारी

नोटबंदी के बाद देश भर में जब एटीएम के बाहर कतारों का बढ़ना जारी है, लेकिन ये एटीएम साइबर अटैक का शिकार हो सकते हैं.

इंटेल सिक्यॉरिटी के एक शीर्ष अधिकारी ने चेतावनी दी है कि भारत में जो एटीएम हैं, वे सुरक्षा में सेंध लगाने के लिहाज से अति संवेदनशील हैं. इंटेल सिक्यॉरिटी साइबर सुरक्षा प्रौद्योगिकी से जुड़ी दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है.

कंपनी के दक्षिण एशिया के प्रबंध निदेशक आनंद राममूर्ति ने आईएएनएस से कहा, 'बैंकों में सुरक्षा में सेंध कई स्तरों पर लग सकती है. जैसे किसी एटीएम पर, डाटा सेंटर पर, नेटवर्क या मोबाइल बैंकिंग के जरिए। हैकरों के लिए आज की तारीख में एटीएम एक आसान लक्ष्य हैं.'

हाल में पिछले दिनों एटीएम पर हमलों से कई देश प्रभावित हुए हैं. हैकरों के एक समूह, जिसे कोबाल्ट के नाम से जाना गया, उसने पिछले माह पूरे यूरोप में गलत सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर दूर-दराज के मशीनों को निशाना बनाया. उन मशीनों के सॉफ्टवेयर में इस तरह से गड़बड़ी कर दी कि वे मशीनें खुदबखुद बड़ी मात्रा में नकदी देने लगीं. भारत के बैंकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि एटीएम कई स्तरों पर प्रमाणीकरण और उद्योग के मानदंड के साथ सुरक्षित रहें, ताकि लेन-देन के हर स्तर पर डाटा की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके.

माइक्रो-एटीएम और पीओएस पर भी खतरा

cardpayment

Source: Getty Images

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के मुताबिक, माइक्रो-एटीएम और पीओएस काउंटर के बढ़ते इस्तेमाल के मद्देनजर देश की प्रमुख साइबर सुरक्षा एजेंसी सीईआरटी-इन ने इनपर साइबर हमलों को लेकर चेताया है और ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए उनसे हाई-इनक्रिप्शन तकनीक अपनाने के लिए कहा है. सीईआरटी-इन ने माइक्रो-एटीएम और पीओएस प्रणाली को लेकर दो परामर्श जारी किए हैं.

डिजिटल सुरक्षा की प्रमुख कंपनी गेमाल्टो की बैंकिंग एवं ट्रांसपोर्ट के क्षेत्रीय निदेशक अतुल सिंह ने कहा, 'यह समय है कि एटीएम से लेन-देन के लिए बैंक जो चुंबकीय धारी वाले कार्ड जारी कर रहे हैं, उन्हें जल्द से जल्द बदल दिया जाए। इसका असर कम से कम हो, इसके लिए प्रभावित बैंक डेबिट कार्ड ब्लॉक कर देते हैं, वे अब इसकी जगह कार्ड को ईएमवी चिप वाले कार्ड जारी करने लगे हैं।' ईएमवी यूरोपे, मास्टरकार्ड और वीजा तीनों का संक्षिप्त रूप है और यह कंप्यूटर चिप अभी दुनिया भर में इस्तेमाल हो रहा है.

(आईएएनएस इनपुट्स के साथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi