S M L

ए लो... 'एलो' से करिए अब हिंदी में बात

एलो ऐप इस्तेमाल करने वाले अब असिस्टेंट से हिंदी में कुछ भी पूछ सकते हैं

Aditya Madanapalle | Published On: Dec 08, 2016 08:23 AM IST | Updated On: Dec 08, 2016 11:29 AM IST

0
ए लो... 'एलो' से करिए अब हिंदी में बात

गूगल एलो में गूगल असिस्टेंट अब हिंदी और ब्राजील की भाषा में भी बात करेगा. गूगल पिक्सल या मैसेजिंग ऐप एलो इस्तेमाल करने वाले अब असिस्टेंट से हिंदी में कुछ भी पूछ सकते हैं. गूगल ने ‘द कीवर्ड ब्लॉग’ में इस बात की जानकारी दी है और अब यह फीचर भारत में उपलब्ध है. अगर आपने एलो इंस्टॉल कर लिया है तो आपको उसे अपडेट करने की जरूरत नहीं है. हिंदी में बात शुरू करने के लिए गूगल असिस्टेंट से 'टॉक टू मी इन हिंदी' बोलें या टाइप करें.

GooglePixel_XL

हां, ब्राजील वालों को अपडेट में बहुत से स्टिकर मिल रहे हैं. लेकिन एलो में भारतीय कलाकारों के बनाए बहुत सारे स्टिकर मौजूद हैं. जहां तक असिस्टेंट की बात है तो यह उतनी ही अच्छी तरह काम करता है जितना इसका इंग्लिश वर्जन.

बड़े काम का 'एलो'

यूजर उससे मौसम की जानकारी ले सकते हैं, एलो के साथ या किसी ग्रुप में गेम खेल सकते हैं, अलार्म और अलर्ट सेट कर सकते हैं, क्रिकेट मैचों का स्कोर पता कर सकते हैं, मूवी शो की टाइमिंग पूछ सकते हैं और खाने या दूसरी जगहों के बारे में पता कर सकते हैं. हालांकि गूगल असिस्टेंट में जो भाषा इस्तेमाल की गई है वो थोड़ी सी औपचारिक है. यहां तक कि जब वो बिल्लियों की तस्वीर दिखाता है.

कविताएं भी सुनिए

गूगल असिस्टेंट में हमारा एक पसंदीदा फीचर है कि आप इससे कविता सुनाने को भी कह सकते हैं और यह उसी वक्त कविताओं के बड़े से खजाने से आपको कविता सुना देता है और इसमें दुनियाभर के कवियों की कविताएं हैं. हालांकि हिंदी कविताओं की संख्या अभी सीमित है. अभी गूगल आपको यहां कबीर के दोहे ही सुना सकता है.

बॉलीवुड इमोजी क्विज भी हमारा एक पसंदीदा गेम है. दोस्तों के साथ मिलकर खेलने के लिए यह बहुत बढ़िया गेम है. इस क्विज में इमोजी की लड़ी के आधार पर आपको बॉलीवुड फिल्मों का नाम बताना होता है. हिंदी में गूगल असिस्टेंट के साथ वॉइस इनपुट की जहां तक बात है तो आपका तीर निशाने पर लग भी सकता है और चूक भी सकता है.

जिन बॉलीवुड फिल्मों के नाम इंग्लिश में हैं, वहां वॉइस इनपुट कभी-कभी इंग्लिश में उलझ कर रह जाता है. इसलिए 'लाइफ इन ए मेट्रो' का ऑटोमेटिक ट्रांसलिटरेशन (देवनागरी में लिखा जाना) नहीं हुआ है,जबकि रॉकस्टार का हुआ है. किस भाषा में असिस्टेंट आपके बताए शब्दों की लड़ी को दिखाएगा, यह सही-सही नहीं बताया जा सकता है. ये गेम इंग्लिश में बढ़िया काम करता है.

गूगल एलो

लड़खड़ाता है, पर अच्छा है

वॉइस इनपुट के आधार पर असिस्टेंट तुरंत जबाव दे पाए, इसके लिए बराबर डाटा कनेक्शन की जरूरत होती है. हिंदी वाला वर्जन इंग्लिश वर्जन से न तो तेज है और न ही धीमा. हालांकि सभी चैटबोट्स और डिजिटल असिस्टेंट्स की तरह, इसमें भी कई बार सवालों की लंबाई को देखते हुए देर लग जाती है. यह सामान्य बात है. हालांकि हिंदी में असिस्टेंट कभी-कभी लड़खड़ा जाता है, लेकिन कुल मिलाकर अनुभव बढ़िया है.

इसके जरिए आर्टिफिशल इंटेलीजेंस तकनीक और ज्यादा लोगों तक पहुंच रही है, उनकी अपनी चिरपरित भाषा में. एलो प्ले स्टोर और ऐप स्टोर में फ्री उपलब्ध है. अब तो बस इंतजार है कि कब यह बंबइया हिंदी और हिंग्लिश को सपोर्ट करेगा, और साथ ही चलताऊ और यार-दोस्तों के बीच होने वाली भाषा को भी समझने लगेगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi