S M L

विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में साक्षी और बजरंग से होंगी उम्मीदें

बजरंग के अलावा भारत की उम्मीदें ओलंपियन संदीप तोमर पर होंगी जिन्होंने पिछले कुछ वर्षों में 57 किग्रा वर्ग में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है

FP Staff Updated On: Aug 20, 2017 05:57 PM IST

0
विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में साक्षी और बजरंग से होंगी उम्मीदें

ओलिंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक और एशियाई चैंपियन बजरंग पूनिया शुरू हो रही विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में में भारतीय चुनौती की अगुआई करेंगे.

सभी की नजरें रियो ओलिंपिक में 58 किग्रा वर्ग की रजत पदक विजेता साक्षी पर टिकी होंगी जिन्होंने एक भार वर्ग ऊपर चढ़ते हुए मई में एशियाई चैंपियनशिप के 60 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीता था.

साक्षी ने इसी वर्ग में चैंपियनशिप के लिए क्वालिफाई किया है और महिलाओं के वर्ग में वह जब गुरुवार को मैट पर उतरेंगी तो उनकी नजरें स्वर्ण पदक पर टिकी होंगी.

एशियाई चैंपियनशिप की एक अन्य रजत पदक विजेता विनेश फोगाट महिला 48 किग्रा वर्ग में चुनौती पेश करेंगी. रियो ओलिंपिक के दौरान लगी चोट के बाद वापसी करते हुए विनेश ने एशियाई चैंपियनशिप में 55 किग्रा वर्ग में हिस्सा लिया था लेकिन उन्होंने 48 किग्रा वर्ग में ही हिस्सा लेने का फैसला किया है.

विनेश के अलावा कोई भी फोगाट बहन विश्व चैंपियनशिप का हिस्सा नहीं है. गीता और बबिता ने ट्रायल में हिस्सा नहीं लिया जबकि रितु और संगीता क्वालिफाई करने में नाकाम रही.

इस बीच पुरुष फ्रीस्टाइल में बजरंग की नजरें भी स्वर्ण पदक पर होंगी. उन्होंने 2013 में बुडापेस्ट विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता था. वह एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने में सफल रहे थे. बुडापेस्ट में हालांकि बजरंग ने 60 किग्रा वर्ग में हिस्सा लिया था जबकि अब वह 65 किग्रा वर्ग में शिरकत करते हैं.

बजरंग ने यहां 12 अगस्त को विशेष चयन ट्रायल में राहुल मान को 10-0 से हराकर विश्व चैंपियनशिप में जगह बनाई है. इससे पहले सोनीपत में 65 किग्रा के चयन ट्रायल के मान विजेता रहे थे लेकिन बजरंग ने भारतीय कुश्ती महासंघ को पत्र भेजा था कि वह वायरल बुखार के कारण ट्रायल में हिस्सा नहीं ले पाएंगे और आग्रह किया था कि उनके वजन वर्ग में अंतिम ट्रायल उनके उबरने के बाद हों. हालांकि बजरंग के ठीक होने पर मान को गर्दन में मामूली चोट लग गई और ट्रायल नहीं हो पाया. इसके बाद मुख्य कोच जगमिंदर सिंह के आग्रह पर दोनों पहलवान फ्रांस गए और अंतिम ट्रायल टूर्नामेंट से पहले हुआ.

बजरंग के अलावा भारत की उम्मीदें ओलंपियन संदीप तोमर पर होंगी जिन्होंने पिछले कुछ वर्षों में 57 किग्रा वर्ग में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है. अमित धनखड़ (70 किग्रा), प्रवीण राणा (74 किग्रा) और सत्यव्रत कादियान (97) से भी लोगों को काफी उम्मीदें हैं. कादियान को अर्जुन पुरस्कार के लिए भी चुना गया है.

ग्रीको रोमन स्पर्धा का आयोजन प्रतियोगिता के पहले दो दिन किया जाएगा और भारत इसमें आठ सदस्यीय टीम उतारेगा.

ग्रीको रोमन भारत का मजबूत पक्ष नहीं है लेकिन देश को उम्मीद है कि उसके पहलवान विरोधियों को हैरान करने में सफल रहेंगे.

टीम इस प्रकार है: पुरुष फ्रीस्टाइल: संदीप तोमर(57 किग्रा), हरफूल (61 किग्रा), बजरंग पूनिया (65 किग्रा), अमित धनखड़ (70 किग्रा), प्रवीण राणा (74 किग्रा), दीपक (86 किग्रा), सत्यव्रत कादियान (97 किग्रा) और सुमित (125 किग्रा) महिला कुश्ती: विनेश फोगाट (48 किग्रा), शीतल (53 किग्रा), ललिता (55 किग्रा), पूजा ढांडा (58 किग्रा), साक्षी मलिक (60 किग्रा), शिल्पी (63 किग्रा), नवजोत कौर (69 किग्रा) और पूजा (75 किग्रा) ग्रीको रोमन: ज्ञानेंदर (59 किग्रा), रविंदर (66 किग्रा), योगेश (71 किग्रा), गुरप्रीत सिंह (75 किग्रा), हरप्रीत सिंह (80 किग्रा), रविंदर खत्री (85 किग्रा), हरदीप (98 किग्रा) और नवीन (130 किग्रा)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi