विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

विश्व चैंपियनशिप में भी हिस्सा नहीं ले पाएंगी दीपा कर्माकर

घुटने के ऑपरेशन से उबर रहीं हैं दीपा कर्माकर

Bhasha Updated On: Jun 22, 2017 08:04 PM IST

0
विश्व चैंपियनशिप में भी हिस्सा नहीं ले पाएंगी दीपा कर्माकर

रियो ओलिंपिक में ऐतिहासिक चौथे स्थान पर रहने वाली भारतीय जिम्नास्ट दीपा कर्माकर विश्व जिम्नास्टिक चैंपियनशिप में नहीं खेल पाएंगी. वह अभी घुटने के ऑपरेशन से उबर रही हैं. यह इस 23 वर्षीय खिलाड़ी के लिए एक और झटका है. वह इससे पहले चोट के कारण इस साल के शुरू में एशियाई चैंपियनशिप में भी हिस्सा नहीं ले पाई थी.

उनका अप्रैल में ऑपरेशन हुआ था और इसके बाद के उनके उपचार में छह महीने का समय लगेगा. इसके बाद ही वह अभ्यास शुरू कर सकती हैं. विश्व चैंपियनशिप अक्टूबर में कनाडा में होगी.

दीपा ने, ‘चोट के मामले में आप कुछ नहीं कर सकते. एक खिलाड़ी के लिए यह निराशाजनक होता है लेकिन मैं इसे झटका नहीं मानूंगी. हालांकि यह निश्चित तौर पर एक चुनौती है. ‘अपने कोच बिश्वेश्वर नंदी के साथ इंदिरा गांधी स्टेडियम में ठहरी दीपा ने जॉगिंग शुरू कर दी है लेकिन वह छह महीने का रिहैब समाप्त होने के बाद ही अभ्यास के बारे में सोच सकती है.

नंदी ने कहा कि दीपा विश्व चैंपियनशिप के लिए तैयार नहीं हो पाएगी और इसलिए उनका ध्यान अगले साल होने वाले राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों पर है.

उन्होंने कहा, ‘मैं नहीं चाहता कि वह केवल भागीदारी के लिए विश्व चैंपियनशिप में जाए. उसके लिए इस बड़ी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए पूरी तरह से तैयार होना संभव नहीं होगा.’ नंदी ने कहा, ‘चोट से वापसी करना चुनौती होता है लेकिन इसके साथ ही आपको यह भी ध्यान रखना पड़ता है आप प्रतियोगिता के दौरान चोटिल हो सकते हो. रियो में एक भागीदार के साथ ऐसा हुआ था. जिम्नास्टिक खतरनाक खेल है.’

दीपा ने कहा कि क्योंकि अभी वह किसी प्रतियोगिता में भाग नहीं ले रही है इसलिए इस समय का उपयोग अपनी फिटनेस पर काम करने और शिक्षा पूरी करने के लिए करेगी. उन्होंने कहा, ‘मैंने पिछले साल एमए की एक परीक्षा दी थी और अब मैं अन्य की तैयारी कर रही हूं.

दीपा से पूछा गया कि चोटिल होने के कारण उन्होंने उम्र का अहम समय गंवा दिया है. इस पर उन्होंने कहा 'रियो में भाग लेने वाली एक जिम्नास्ट की उम्र 43 साल थी. इसलिए अगर वह ऐसा कर सकती है तो मैं भी कर सकती हूं.’ दीपा ने रियो ओलिंपिक में चौथे स्थान पर रहकर इतिहास रचा था. वह मामूली अंतर से कांस्य पदक से चूक गई थी. वह ओलिंपिक में भाग लेने वाली भारत की पहली महिला जिम्नास्ट बनी थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi