S M L

लियोनेल मेसी ने की टैक्स चोरी, सजा पर लगी मुहर

सुप्रीम कोर्ट ने मेसी की सजा पर लगाई मुहर, लेकिन नहीं जाएगें जेल

FP Staff Updated On: May 25, 2017 11:46 AM IST

0
लियोनेल मेसी ने की टैक्स चोरी, सजा पर लगी मुहर

टैक्स धोखाधड़ी मामले में अर्जेंटीना के स्टार फुटबॉलर लियोनेल मेसी और उनके पिता को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिली. स्पेनिश मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट ने मेसी और उनके पिता को सुनाई गई सजा पर लगभग एक साल बाद मुहर लगा दी है.

स्पेन की एक अदालत ने जून में आरोप साबित होने के बाद जुलाई, 2016 में दोनों को 21 महीने की जेल की सजा सुनाई थी. यही नहीं, 37 लाख यूरो (लगभग 41 लाख डॉलर) जुर्माना भी लगाया था.

मेसी और उनके पिता जार्ज होरेसियो मेसी को 41 लाख 60 हजार यूरो के टैक्स से बचने के लिए बेलिज और यूरुग्वे में कंपनियों का उपयोग करने का दोषी पाया गया था. पांच बार के फीफा के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गए 29 साल के मेसी पर 20 लाख 90 हजार यूरो, जबकि उनके पिता पर 16 लाख यूरो का जुर्माना लगाया गया.

क्या थी मेसी की दलील?

मेसी ने सुप्रीम कोर्ट में इस फैसले को चुनौती दी थी. इस बारे में मेसी मेसी ने अदालत को बताया था कि उन्होंने वित्तीय मामलों में अपने पिता पर पूरा भरोसा दिखाया. उन्हें कुछ भी पता नहीं कि उनकी कमाई का प्रबंधन कैसे किया जाता था.

क्या है पूरा मामला?

ये पूरा मामला 2007 से 2009 के बीच का है. इस दौरान लियोनेल मेसी ने तस्वीरों के अधिकार से जो पैसा कमाया उस पर उन्होंने टैक्स नहीं चुकाया. उन पर आरोप है कि उन्होंने इस कमाई के पैसे को दूसरे देशों में रखा.

रिपोर्ट की मानें तो तस्वीरों से उन्हें एक करोड़ यूरो से भी अधिक की कमाई हुई. मेसी ने इस कमाई का जिक्र अपने टैक्स रिटर्न में नहीं किया और न ही टैक्स चुकाया.

कब सामने आया था यह मामला?

यह मामला जून, 2015 में सामने आया है. मेसी की तस्वीरों के अधिकारों से संबंधित कमाई में डैनोन, एडिडास, पेप्सी कोला, प्रॉक्टर ऐंड गैंबल और कुवैत फूड जैसी कंपनियों से जुड़े करार शामिल हैं. मेसी जन्म के बाद 2000 में अपने जन्म स्थल अर्जेंटीना के रोसारियो से बार्सिलोना चले गए और 2005 में वो स्पेन के नागरिक बन गए.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi