S M L

बीसीसीआई को चेतावनी, 'भारतीय क्रिकेट' के खिलाफ फैसला हुआ तो सुप्रीम कोर्ट जाएंगे

सीओए ने राज्य संघों को भेजा पत्र - कहा भारतीय क्रिकेट के हितों के मुताबिक फैसले लें

Bhasha Updated On: May 03, 2017 06:22 PM IST

0
बीसीसीआई को चेतावनी, 'भारतीय क्रिकेट' के खिलाफ फैसला हुआ तो सुप्रीम कोर्ट जाएंगे

क्रिकेट प्रशासकों की समिति ने राज्य संघों को भेजे पत्र में चेताया है कि यदि सात मई को होने वाली एसजीएम में बीसीसीआई की आमसभा ‘भारतीय क्रिकेट के हितों के प्रतिकूल’ फैसला लेती है तो वे उच्चतम न्यायालय की शरण लेंगे.

यह पत्र इन अटकलों के बीच लिखा गया है कि बीसीसीआई अगले महीने इंग्लैंड में होने वाली चैंपियंस ट्रॉफी से पीछे हटने पर विचार कर रहा है. सीओए ने हालांकि साफ तौर पर कहा है कि ऐसे फैसले बिना सहमति के नहीं लिए जा सकते.

सीओए के पत्र में सदस्यों से यह भी कहा गया है कि आईसीसी भले ही फिर से बात करने को तैयार है. लेकिन भारतीय बोर्ड की 57 करोड़ डॉलर की मांग उसे स्वीकार्य नहीं होगी.

सीओए ने 13 बिंदुओं वाले पत्र में कहा है कि भारतीय क्रिकेट की रक्षा करने वाले किसी भी फैसले का समिति समर्थन करेगी. उन्होंने यह भी कहा कि एसजीएम में अगर कोई भी फैसला ऐसा लिया गया जो भारतीय क्रिकेट के हितों के खिलाफ है तो सीओए उच्चतम न्यायालय का मार्गदर्शन लेने में नहीं हिचकिचाएगी.

इसमें कहा गया, ‘हमें माननीय उच्चतम न्यायालय का ध्यान इस ओर आकर्षित करना होगा. हम इस मसले पर उसके दखल की मांग करेंगे ताकि भारतीय क्रिकेट के हितों की रक्षा हो सके.’

एन श्रीनिवासन धड़े ने टेलीकांफ्रेंस के जरिये सदस्य भागीदारी समझौता (एमपीए) के इस्तेमाल पर सहमति बनाने की कोशिश की जिसमें चैंपियंस ट्रॉफी का बहिष्कार शामिल है. सीओए ने दसवें पॉइंट में कहा, ‘इसकी संभावना बिल्कुल कम है कि आईसीसी और अन्य क्रिकेट बोर्ड उस वित्तीय मॉडल पर सहमत होंगे जो 2014 में लाया गया था.’

सीओए चाहता है कि बातचीत जारी रहनी चाहिए जिससे आईसीसी 293 मिलियन डॉलर से 570 मिलियन डॉलर के बीच किसी रकम पर रजामंदी जता सकती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi