S M L

आईपीएल 2017, MI Vs GL Match 35 Result: बूम-बूम बुमराह ने सुपर ओवर में दिलाई मुंबई को जीत

मुंबई इंडियंस और गुजरात लायंस के बीच मैच हुआ टाई, सुपर ओवर से हुआ फैसला

FP Staff | Published On: Apr 30, 2017 12:34 AM IST | Updated On: Apr 30, 2017 12:34 AM IST

आईपीएल 2017, MI Vs GL Match 35 Result: बूम-बूम बुमराह ने सुपर ओवर में दिलाई मुंबई को जीत

सुपर ओवर कैसा किया जा सकता है, ये जसप्रीत बुमराह से सीखना चाहिए. सुपर ओवर में क्या नहीं करना चाहिए, ये भी जसप्रीत बुमराह से सीखना चाहिए. गुजरात लायंस अपनी बेहतरीन फील्डिंग से 153 रन तो बचा गए. लेकिन सुपर ओवर में जसप्रीत बुमराह से नहीं बच पाए. मुंबई इंडियंस ने मैच जीता. सुपर ओवर में जीत के लिए 12 रन की जरूरत थी. लेकिन गुजरात लायंस का स्कोर छह तक ही पहुंच पाया. इससे पहले गुजरात लायंस के नौ विकेट पर 153 रन के जवाब में मुंबई इंडियंस टीम 153 पर ऑल आउट हो गई थी.

मुकाबला टाई होने के बाद सुपर ओवर का समय आया. गुजरात के लिए फॉकनर ने गेंदबाजी की. 11 रन पर दो विकेट खोने की वजह से मुंबई टीम पूरा ओवर भी नहीं खेल पाई. सुपर ओवर के नियम के मुताबिक तीन बल्लेबाजों को चुना जाता है. काइरन पोलार्ड और जोस बटलर, दोनों आउट हुए और रोहित शर्मा नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़े रह गए. गुजरात को जीत के लिए 12 रन की जरूरत थी.

यहां से जसप्रीत बुमराह का जादू शुरू होता है. गुजरात के बल्लेबाज थे ब्रेंडन मैक्कलम और एरॉन फिंच. पहली गेंद उन्होंने नो बॉल की. जाहिर है, फ्री हिट मिला. लेकिन इस पर सिर्फ लेग बाई बन सका. दूसरी गेंद वाइड की. लेकिन इसके बाद जो गेंद की, उस पर कोई रन नहीं बना. तीसरी गेंद पर सिर्फ लेग बाई बन पाया. चौथी पर कोई रन नहीं. आखिरी दो गेंदों पर सिर्फ दो रन बने. बुमराह की गेंद रिवर्स स्विंग हुई. यॉर्कर की. स्लो बॉल की. वो भी इतनी स्लो, जो स्पिनर की रफ्तार होती है. हर बार वो फिंच या मैक्कलम को छकाते रहे.

इससे पहले गुजरात लायंस टीम मुम्बई इंडियंस के सामने 154 रनों का लक्ष्य रखा. राजकोट के सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम पर जारी इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए गुजरात की टीम ने निर्धारित 20 ओवरों में 9 विकेट पर 153 रन बनाए. इसमें इशान किशन के सबसे अधिक 48 रन शामिल थे.

इशान और काफी हद तक रवींद्र जडेजा (28) को छोड़कर शीर्ष क्रम का कोई और बल्लेबाज छाप नहीं छोड़ सका. ईशान ने पारी की शुरूआत करते हुए 35 गेंदों पर छह चौके और दो छक्के लगाए.

ब्रेंडन मैक्लम (6), सुरेश रैना (1), एरान फिंच (0) और दिनेश कार्तिक (2) ने निराश किया. जडेजा ने 21 गेंदों प दो चौके और एक छक्का लगाया. आईपीएल-10 में पहली बार खेल रहे इरफान पठान (2) अपने पदार्पण को यादगार नहीं बना सके. मुम्बई की ओर से क्रुणाल पांड्या ने तीन विकेट लिए जबकि बूमराह और लसिंथ मलिंगा ने दो-दो विकेट लिए.

ऐसा कतई नहीं लग रहा था कि मुंबई को इस स्कोर तक पहुंचने में दिक्कत होगी. पहले विकेट के लिए सिर्फ चार ओवर में 43 रन जुड़ने के बाद तो ये और आसान लग रहा था. पार्थिव पटेल कमाल की बल्लेबाजी कर रहे थे. उन्होंने 70 रन बनाए. लेकिन एक बार विकेट गिरने शुरू हुए, तो क्रुणाल पांड्या के 29 रन के अलावा कोई अच्छी पारी नहीं खेल पाया.

उसके बावजूद रन रेट को लेकर कोई समस्या नहीं थी. सात ओवर में 50 रन चाहिए थे. आठ विकेट बाकी थे. चार ओवर में 31 रन और छह विकेट बाकी थे. तब भी नहीं लगा कि ये रन नहीं बनेंगे. आखिरी दो ओवर में भी सिर्फ 15 रन की जरूरत थी. लेकिन एक के बाद एक विकेट गिरते रहे. गुजरात की वापसी में फील्डिंग का भी बड़ा रोल रहा. मुंबई के चार बल्लेबाज रन आउट हुए. खासतौर पर रवींद्र जडेजा की डायरेक्ट हिट ने कमाल किया.

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi