S M L

स्मिथ ने की बेईमानी की कोशिश, भड़के विराट

स्मिथ ने डीआरएस के लिए मांगी थी ड्रेसिंग रूम से मदद

FP Staff Updated On: Mar 07, 2017 02:55 PM IST

0
स्मिथ ने की बेईमानी की कोशिश, भड़के विराट

भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज में वैसे भी भावनाओं का उबाल देखा जा रहा है. ऐसा ही एक नजारा बेंगलुरू टेस्ट में दिखा, जब ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ ने बेईमानी की कोशिश की. मुकाबला बेहद तनाव भरे दौर में था. ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ क्रीज में थे. ऑस्ट्रेलियाई टीम डेविड वॉर्नर, मैट रेनशॉ और शॉन मार्श के विकेट खो चुकी थी.

ऑस्ट्रेलिया बेहद स्थिति में लग रहा था कि अचानक उमेश यादव को लाया गया. उन्होंने बेहतरीन गेंदबाजी शुरू की. उनकी एक गेंद बिल्कुल नहीं उठी और स्टीव स्मिथ के पैड पर लगी. अंपायर नाइजल लॉन्ग ने उंगली उठाई. इसी समय स्मिथ पिच पर आगे गए और साथी खिलाड़ी पीटर हैंड्सकॉम्ब से बात करने लगे. हैंड्सकॉम्ब शायद तय नहीं कर पाए रहे थे कि स्मिथ को डीआरएस लेना चाहिए या नहीं.

 

इसी दौरान स्मिथ ने ड्रेसिंग रूम की तरफ देखा और मदद मांगी. डीआरएस के नियम 3.2 के मुताबिक अगर बल्लेबाज को रिव्यू लेना है, तो वो सिर्फ अपने साथी बल्लेबाज से सलाह कर सकता है. स्मिथ ने जैसे ही ड्रेसिंग रूम की तरफ देखा, अंपायर नाइजल लॉन्ग उनकी तरफ मना करते हुए बढ़े. इसी वक्त नाराज विराट कोहली भी मुकाबले में कूद गए.

कोहली बेहद नाराज थे. वह अंपायर की तफ बढ़े. इस बीच लॉन्ग ने स्मिथ को बताया कि वो ड्रेसिंग रूम की तरफ इशारा नहीं कर सकते. इसके बाद स्मिथ पेवेलियन की तरफ बढ़ गए. उनके जाने के बाद भी कोहली बेहद नाराज दिखाई दिए.

Australian captain Steve Smith walks back to the pavilion after his dismissal for 28 runs during the fourth day of the second Test match between India and Australia at The M. Chinnaswamy Stadium in Bangalore on March 7, 2017.  / AFP PHOTO / Manjunath KIRAN / ----IMAGE RESTRICTED TO EDITORIAL USE - STRICTLY NO COMMERCIAL USE----- / GETTYOUT

स्टीव स्मिथ.

जिस समय घटना हुई, उस वक्त कमेंटरी कर रहे ऑस्ट्रेलियन कमेंटेटर ने कहा कि शायद स्मिथ को नियम का अंदाजा नहीं था. लेकिन भारतीय कमेंटेटर सुनील गावस्कर और वीवीएस लक्ष्मण को लगता है कि स्मिथ को इसके लिए सजा देनी चाहिए. गावस्कर ने कहा, ‘मैं इसे बेईमानी कहूंगा. मैच रेफरी को इस पर ऐसी सजा देनी चाहिए कि एक नजीर कायम हो.’ गावस्कर और लक्ष्मण इस बात से ज्यादा नाराज थे कि किसी कप्तान ने ये किया. उनका कहना था कि अगर टीम का कोई और खिलाड़ी होता तो शायद बेनेफिट ऑफ डाउट दिया जा सकता था. लेकिन कप्तान के साथ ऐसा किसी भी हालत में नहीं होना चाहिए. वाकई, किसी टीम के कप्तान को नियम न मालूम हो, ऐसा मुश्किल ही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi