S M L

चैंपियंस ट्रॉफी 2017 : क्या 'फिक्स' थी फाइनल में पाकिस्तान की एंट्री?

आमिर ने इशारों-इशारों में लगाए चैंपियंस ट्रॉफी में 'फिक्सिंग' के आरोप

FP Staff Updated On: Jun 16, 2017 05:14 PM IST

0
चैंपियंस ट्रॉफी 2017 : क्या 'फिक्स' थी फाइनल में पाकिस्तान की एंट्री?

एक ओर जहां सारे फैंस रविवार को भारत और पाकिस्तान के बीच चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल का इंतजार कर रहे हैं. वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान के पूर्व सलामी बल्लेबाज आमिर सोहेल अपनी ही टीम यानी पाकिस्तानी पर परोक्ष रूप से ‘मैच फिक्सिंग’ के आरोप लगाए हैं.

हालांकि इन आरोपों के बाद आमिर सोहेल अपनी बात से पलट गए. सोहेल ने कहा कि उन्होंने कभी भी राष्ट्रीय टीम पर मैच फिक्सिंग का आरोप नहीं लगाया. वह तो सिर्फ पाकिस्तानी कप्तान सरफराज अहमद की आलोचना कर रहे थे, जिन्होंने उस जीत को पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज जावेद मियांदाद को समर्पित करने से इनकार कर दिया था. मियांदाद उसी दिन अपना जन्मदिन मना रहे थे.

सोहेल बतौर विशेषज्ञ पाकिस्तान के टेलीविजन चैनल पर बात कर रहे थे. चैंपियंस ट्रॉफी पर हो रही चर्चा के दौरान ही उन्होंने ऐसी बात कह दी जिससे उन्ही की टीम के ऊपर सवालिया निशान लग गया. आमिर ने कहा, ‘पाकिस्तान की टीम और उसके कप्तान सरफराज अहमद को इस तरह खुशी नहीं मनानी चाहिए, यह टीम बाहरी कारणों से मैच जीतकर चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पहुंची है, अपने खेल से नहीं.'

Pakistan's Shoaib Akhtar stands with the former test player Aamir Sohail (L) in a balcony at Gaddafi Stadium in Lahore October 11, 2007. Akhtar has been banned for 13 international matches and fined 3.4 million rupees ($56,000) by the disciplinary committee of the Pakistan Cricket Board. Chairman of the committee Shafqat Naghmi announced on Thursday that the player had been found guilty of five breaches of the code of conduct and would be under a two-year observation period. REUTERS/Mohsin Raza (PAKISTAN) - RTR1UT4X

वो आगे  कहते हैं, 'सरफराज को यह बताने कि जरूरत है कि आपने कुछ महान काम नहीं किया है. किसी और ने मैच जीतने में आपकी मदद की है. इसलिए आपके पास खुश होने का कोई कारण नहीं है. हम सब जानते हैं कि परदे के पीछे क्या हुआ है. इन खिलाड़ियों को यहां तक लाया गया है. इसके पीछे मत जाओ कि किसने उनके लिए मैच जीते हैं. अगर पूछोगे, तो मैं कहूंगा फैन्स की दुआओं और ऊपर वाले की रहमत से यह मैच जीते हैं.

सोहेल ने ताजा बयान में कहा, ‘अगर मुझसे कोई पूछेगा तो मैं यही कहूंगा कि लोगों की प्रार्थनाएं और अल्लाह उन्हें मैच जिता रहे हैं. पाकिस्तानी टीम मैदान पर अपने अच्छे खेल की बदौलत नहीं, बल्कि बाहरी कारकों की बदौलत फाइनल में पहुंची है. इन लड़कों को अपने पैर जमीन पर रखते हुए अच्छा खेल दिखाने की कोशिश करनी होगी.’

 

 

आमिर के इस बयान में सीधे-सीधे तो फिक्सिंग की बात नहीं कही गई है. लेकिन अगर उनकी बातों के सार को समझा जाए तो इस टूर्नामेंट के फाइनल में पाकिस्तान की मौजूदगी पर शक पैदा हो जाता है.

आमिर के इस बयान पर अभी तक आईसीसी या पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.सोहेल भी मैच फिक्सिंग मामले से जुड़े रहे हैं. पाकिस्तानी क्रिकेट को 1990 के दशक में झंकझोरने वाली इस घटना के वह भी गवाह रहे हैं. सोहेल 1992 में विश्व कप जीतने वाली पाकिस्तानी टीम के सदस्य भी थे.

भारत के खिलाफ पहला मुकाबला हारने के बाद पाकिस्तान ने टूर्नामेंट में जबरदस्त वापसी करते हुए फाइनल में जगह बनाई है. और 18 जून को भारत और पाकिस्तान के बीच चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल खेला जाएगा.

 

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi