S M L

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017: ये हैं वो पांच कारण जिसके चलते पाकिस्तान से हारा भारत

पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय टीम ने कई गलतियां की

Lakshya Sharma | Published On: Jun 19, 2017 10:51 AM IST | Updated On: Jun 19, 2017 04:26 PM IST

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017: ये हैं वो पांच कारण जिसके चलते पाकिस्तान से हारा भारत

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल में जिस तरह भारत पाकिस्तान से हारा है उस पर किसी को विश्वास नहीं हुआ. ऐसा लग ही नहीं रहा था कि भारतीय टीम इस मैच में फेवरेट थी. शुरुआत से लेकर मैच खत्म होने तक भारतीय टीम गलतियां करती रही. फाइनल में पिछली बार की चैंपियन 180 रन से मात खाएगी ये किसी ने सोचा तक नहीं था. तो आपको बताते हैं कि टीम इंडिया को आखिर क्यों इतनी बड़ी शिकस्त झेलनी पड़ी.

जसप्रीत बुमराह की नो बॉल पड़ी महंगी

जसप्रीत बुमराह जब मैच का चौथा ओवर फेंकने आए उस दौरान भारत पाकिस्तान के ओपनर फखर जमां का विकेट लेने के लिए चूक गया. बुमराह ने ओवर की पहली गेंद पर ही फखर को धोनी के हाथों कैच आउट करवा दिया, लेकिन अंपायर ने गेंद को नो बॉल करार दे दिया. रिप्ले में साफ दिखा कि बुमराह ने बहुत बड़ी नो बॉल की थी. इसके बाद फखर ने मिले जीवनदान का पूरा फायदा उठाया और 114 रनों की बड़ी पारी खेल डाली.

रन आउट के कई मौके गंवाए

भारतीय टीम की फील्डिंग भी इस मैच में बहुत साधारण रही. शुरुआत में पाकिस्तान के ओपनरों मे रन आउट के कई मौके भारतीय टीम को दिए लेकिन भारतीय फील्डर एक बार भी उस मौके का फायदा नहीं उठा पाए. इस मैच में टीम इंडिया की फील्डिंग पूरे मैच में भी अच्छी नहीं रही.

अश्विन- जडेजा का फ्लॉप शो

फाइनल मुकाबले में जिन दो गेंदबाजों से सबसे ज्यादा उम्मीद थी उन्हीं ने भारतीय टीम की लुटिया डुबा दी. अश्विन और जडेजा भारतीय टीम के सबसे अनुभवी गेंदबाज. लेकिन फाइनल में इन दोनों का प्रदर्शन बहुत खराब रहा. अश्विन ने 10 ओवर में 70 और जडेजा ने 8 ओवर में 67 रन लुटा दिए.

टीम इंडिया की खराब बल्लेबाजी

भारतीय टीम ने टॉस जीतकर गेंदबाजी इसलिए चुनी थी क्योंकि बल्लेबाजी इस टीम की ताकत है और टीम इंडिया रन चेस में भी अच्छी मानी जाती है. लेकिन फाइनल में इन बल्लेबाजो ने कोई संघर्ष नहीं दिखाया. इस टीम के पास स्टार खिलाड़ियों की भरमार थी, लेकिन पूरा स्टार बल्लेबाजी क्रम ताश के पत्तों की तरह ढह गया. सभी स्टार बल्लेबाज मिलकर भी 200 के स्कोर तक नहीं पहुंच पाए.

विराट कोहली की खराब कप्तानी

इस मैच में विराट कोहली की कप्तानी भी थोड़ी ढीली  रही. केदार जाधव से इतना लेट गेंदबाजी करवाना किसी को समझ नहीं आया. सेमीफाइनल में जाधव ने शानदार गेंदबाजी की थी लेकिन फिर भी इस मैच में कोई उन्हें गेंदबाजी के लिए 38वें ओवर में लाए. इसके बाद जब उन्होंने 2 ओवर ठीक कर दिए तो उनसे 45वां ओवर भी करावाया. अब आखिरी ओवर्स में केदार से गेंदबाजी करवाना भी किसी को समझ नहीं आया.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi