S M L

चैंपियंस ट्रॉफी 2017, इंग्लैंड-बांग्लादेश: मेजबान हावी लेकिन बांग्लादेश भी कमजोर नहीं

चैंपियंस ट्रॉफी का पहला मैच 1 जून को इंग्लैंड बनाम बांग्लादेश के बीच

FP Staff | Published On: Jun 01, 2017 08:16 AM IST | Updated On: Jun 01, 2017 01:30 PM IST

चैंपियंस ट्रॉफी 2017, इंग्लैंड-बांग्लादेश: मेजबान हावी लेकिन बांग्लादेश भी कमजोर नहीं

चैंपियंस ट्रॉफी का पहला मैच 1 जून को मेजबान इंग्लैंड और बांग्लादेश के बीच में खेला जाएगा. यह मुकाबला ओवल के केनिंग्टन स्टेडियम में खेला जाएगा. हालांकि मुकाबले से पहले ही इंग्लैंड को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है लेकिन बांग्लादेश को भी कम समझना बड़ी भूल होगी.

इंग्लैंड ने हाल में दुनिया की नंबर वन वनडे टीम को 3 मैचों की सीरीज को 2-1 से जीतकर बता दिया कि वह इस बार अगल मकसद से उतरेगी. इंग्लैंड की टीम में कई मैच विनर खिलाड़ी है.

टीम में ऑलराउंडर खिलाड़ियों की भरमार है और वो उनकी सबसे बड़ी ताकत है. इंग्लैंड की टीम में बेन स्टोक्स, जो रूट, मोईन अली, क्रिस वोक्स जैसे ऑलराउंड खिलाड़ी हैं, तो वहीं बल्लेबाजी में ऑइन मोर्गन, जेसन रॉय, एलेक्स हेल्स, सैम बिलिंग्स, जॉनी बेयरस्टो जैसे विस्फोटक बल्लेबाज हैं. इसके साथ-साथ गेंदबाजी में भी टीम के पास जेक बॉल, लियम प्लंकेट, आदिल राशिद, डेविड विली, मार्क वुड जैसे गेंदबाज हैं. इस टीम के नंबर 9 या 10 के बल्लेबाज भी तूफानी बल्लेबाजी करने में उस्ताद माने जाते हैं.

वैसे सबकी नजरें ऑइन मॉर्गन और बेन स्टोक्स पर होगी. दोनों ही खिलाड़ियों ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ शानदार प्रदर्शन किया था. हालांकि टीम को दोनों ओपनर जेसन रॉय और एलेक्स हेल्स का लगातार फेल होना टीम के लिए खतरनाक साबित हो सकता है. जो रूट तो टीम की रीढ़ की हड्डी है और लगातार रन बना ही रहे हैं. टीम की गेंदबाजी काफी काफी संतुलित है. टीम के पास हर परिस्थिति के हिसाब के गेंदबाज है.

वहीं बांग्लादेश भारतीय टीम के खिलाफ अभ्यास मैच में करारी मात खा कर मैदान पर उतरेगी लेकिन उसे कमजोर समझने की गलती इंग्लैंड भी नहीं करेगा. इस टीम के ज्यादातर खिलाड़ी फॉर्म में हैं और इंग्लैंड की एक चूक उन्हे भारी पड़ सकती है.

टीम की ताकत टॉप ऑर्डर में तमीम इकबाल, सौम्य सरकार, शाकिब अल हसन और महमदुल्लाह जैसे बल्लेबाजों की मौजूदगी है. इन बल्लेबाजों ने पिछले दो सालों में रनों का अंबार लगाया है और टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई है. मुश्फिकुर रहीम भी टीम के सीनियर और विश्वसनीय विकेटकीपर बल्लेबजाज हैं.

गेंदबाजी की जिम्मेदारी मशरफे मुर्तजा और मुस्तफिजुर रहमान के कंधों पर रहेगी. दोनों ने पिछले एक साल में 13 मैचों में 24 विकेट झटके हैं. ये दोनों ही खिलाड़ी बांग्लादेश की गेंदबाजी के अगुवा हैं. रूबेल हुसैन और तस्कीन अहमद इस आक्रमण को और खतरनाक बनाते हैं. ऐसे में तेज गेंदबाजी आक्रमण काफी सधा हुआ नजर आता है. स्पिन गेंदबाजी की जिम्मेदारी अनुभवी शाकिब अल हसन और मेहदी हसन के कंधों पर होगी.

इस टीम की सबसे बड़ी कमजोरी है कि यह टीम आईसीसी टूर्नामेंट में उलटफेर तो कर सकती है लेकिन लगातार मैच जीतना इस टीम के लिए मुश्किल है. इंग्लैंड की परिस्थिति में खुद को ढालना भी टीम के खिलाड़ियों के लिए मुश्किल हो सकता है.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi