S M L

चैंपियंस ट्रॉफी 2017: इंग्लैंड में अटैकिंग क्यों नहीं होना चाहते जाधव

इंग्लैंड के हालात में पूरी तरह से आक्रामक होना शायद काम नहीं करे: केदार

Bhasha | Published On: May 29, 2017 09:41 PM IST | Updated On: May 29, 2017 09:41 PM IST

चैंपियंस ट्रॉफी 2017: इंग्लैंड में अटैकिंग क्यों नहीं होना चाहते जाधव

अपने पहले आईसीसी टूर्नामेंट में खेलते हुए केदार जाधव का रोमांचित होना स्वाभाविक है. लेकिन वह अच्छी तरह वाकिफ हैं कि पूरी तरह से आक्रामक रवैया अपनाना इंग्लैंड के हालात में काम नहीं करेगा.

जाधव को मंगलवार के दिन न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत के पहले अभ्यास मैच में बल्लेबाजी का मौका नहीं मि.ला लेकिन वह फिर भी इस मैच से काफी कुछ सीखने में सफल रहे.

बांग्लादेश के खिलाफ भारत के दूसरे अभ्यास मैच से पूर्व जाधव ने कहा, ‘पहले वॉर्म अप मैच में मैंने देखा कि बल्लेबाजों को हर रन के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ रही है. हालात के लगातार बदलने के कारण वे सहज नहीं हो पा रहे थे.’ बदलते मौसम के बीच भारतीय बल्लेबाजों ने क्रीज पर महत्वपूर्ण समय बिताया जिससे टीम ने आसान जीत दर्ज की.

जाधव ने कहा, ‘विकेट पर घास थी और मौसम के बदलाव से गेंद स्विंग कर रही थी.’ उन्होंने कहा, ‘अगर आने वाले मैचों में ऐसा ही रहा तो आप आक्रामक रह सकते हैं लेकिन तकनीकी तौर पर आपको टेस्ट मैच या रणजी ट्रॉफी की तरह बल्लेबाजी करनी होगी. अच्छी गेंद को छोड़ दीजिए और मौका मिलने पर हर गेंद पर रन बनाइए.’ जाधव ने कहा कि हालात से निपटने के लिए उन्होंने अपने खेल में बदलाव किया है.

उन्होंने कहा, ‘नेट में मैं शरीर के जितना संभव हो उतना अधिक करीब खेलने की कोशिश कर रहा हूं.’ जाधव ने कहा कि टीम की तैयारी अच्छी है और निजी तौर पर वह अच्छे प्रदर्शन के लिए तैयार हैं. वीजा मुद्दों के कारण टीम से देर से जुड़ने वाले जाधव ने कहा, ‘यह मेरी पहली आईसीसी ट्रॉफी है, मैं बाकियों की तुलना में अधिक रोमांचित हूं. इस तरह के टूर्नामेंट में खेलना शानदार अहसास है.’

उन्होंने कहा, ‘अब तक तैयारी संतोषजनक रही है. उम्मीद करता हूं कि मुझे कल अभ्यास मैच में बल्लेबाजी का मौका मिलेगा और इसके बाद बर्मिंघम के हालात से सामंजस्य बैठाने के लिए हमारे पास तीन से चार दिन हैं.’ रविवार को पाकिस्तान के खिलाफ भारत के पहले मैच के बारे में पूछने पर जाधव ने कहा, ‘मुझे लगता है कि पेशेवर क्रिकेटर के रूप में हम अपनी भावनाओं को शामिल नहीं करते. हम अपने सभी प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ समान जज्बे के साथ खेलते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘‘माहौल दर्शक तैयार करते हैं। लोगों का मैच के लिए आना अच्छा है लेकिन हम सभी प्रतिद्वंद्वियों का सम्मान करते हैं.’

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi