S M L

चैंपियंस ट्रॉफी 2017: तैयार हो जाइए ब्लॉकबस्टर मुकाबले के लिए

भारतीय टीम है फेवरिट, पाकिस्तान की बल्लेबाजी को लेकर फिक्र

FP Staff | Published On: Jun 04, 2017 10:15 AM IST | Updated On: Jun 04, 2017 10:18 AM IST

चैंपियंस ट्रॉफी 2017: तैयार हो जाइए ब्लॉकबस्टर मुकाबले के लिए

भारत और पाकिस्तान का मुकाबला हो, तो उससे बड़ा और क्या हो सकता है. दुनिया भले ही बताती रहे कि तमाम खेल इवेंट हैं, जो बहुत बड़े होते हैं. लेकिन पाकिस्तान और भारत के बीच क्रिकेट मैच का मुकाबला कोई नहीं कर सकता. हजारों लोग स्टेडियम के अंदर, हजारों स्टेडियम के अंदर जाने को बेताब, लाखों लोग टीवी पर नजरें गड़ाए. हर गेंद को ऐसे देखते लोग, जैसे उस पर उनकी जिंदगी टिकी हुई हो.

पिछले तमाम सालों में जो लोग खेले हैं, वो हीरो, विलेन या क्रिकेट की दंतकथाओं का हिस्सा बन गए हैं. उन्हें हर घर में जाना और पहचाना जाने लगा है. जो इन मैचों में फेल हुए, उन्हें अपने मुल्क में लोगों की नाराजगी सहनी पड़ी. प्रशंसकों की प्रतिक्रिया इन मैचों को लेकर बिल्कुल अलग रही है. जीतने वाले के घरों पर हुजूम जमा होता है, तो हारने वाले के भी. ये अलग बात है कि हारने वाले के घर के सामने जमा हुआ हुजूम गुस्सा निकालने के लिए होता है. अजय जडेजा, शाहिद आफरीदी, जावेद मियांदाद, सचिन तेंदुलकर, वसीम अकरम और विराट कोहली उनमें हैं, जो आपसी जंग के हीरो बनकर उभरे थे या उभरे हैं.

रविवार को सबसे बड़ा मुकाबला

बस, कुछ घंटे बाकी हैं. बर्मिंघम में हरे, सफेद और केसरिया रंग का सैलाब उमड़ने वाला है. भारत और पाकिस्तान के बीच चैंपियंस ट्रॉफी का मुकाबला होगा. माहौल यकीनन अलग होगा, पिछली बार चैंपियंस ट्रॉफी में भारत और पाकिस्तान के बीच बर्मिंघम में मुकाबला हुआ था, उसे 25 हजार लोगों ने देखा था. दोनों तरफ के प्रशंसक गा रहे थे – ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे.. इससे बेहतर माहौल नहीं हो सकता था.

ADELAIDE, AUSTRALIA - FEBRUARY 15: Pakistan and India supporters pose with their flags outside of the ground during the 2015 ICC Cricket World Cup match between India and Pakistan at the Adelaide Oval on February 15, 2015 in Adelaide, Australia. (Photo by Scott Barbour/Getty Images)

दोनों मुल्कों का कल्चर, खाना, भाषा, संगीत भले ही एक जैसा हो. लेकिन जब बात क्रिकेट की आती है, तो कुछ भी एक जैसा नहीं रह जाता. कोई दर्शक विपक्षी टीम के खिलाड़ी को सराहता नहीं दिखता. ऐसी कोई बात नहीं होती कि हम जीत के करीब थे या कोई बात नहीं अगली बार ट्राई करेंगे. हर कीमत पर यहां जीत चाहिए. यही प्रशंसकों का एकमात्र लक्ष्य होता है.

खिलाड़ियों के बीच भिड़ंत के हैं तमाम किस्से

खिलाड़ियों में प्रोफेशनल सम्मान होता है. लेकिन यहां भी सिर्फ एक नतीजा चाहिए. वो है जीत. मैदान पर छींटाकशी होती है. ऐसी सलाह दी जाती है, तो कुछ भी हो, दोस्ताना तो नहीं कही जा सकती. खिलाड़ियों के बीच तमाम झड़प हम देख चुके हैं. आमिर सुहैल और वेंकटेश प्रसाद, शाहिद आफरीदी और गौतम गंभीर, जावेद मियांदाद और किरण मोरे के बीच हुई घटनाएं कुछ उदाहरण हैं. घटनाएं दोस्ताना तो नहीं थीं, लेकिन यादगार जरूरत बन गईं. ये सब घटनाएं भारत और पाकिस्तान में अब भी याद की जाती हैं और उनकी बातें होती हैं.

आईसीसी टूर्नामेंट में भारत का पलड़ा भारी रहा है. भारतीय प्रशंसक विपक्षी टीम को ये याद दिलाने में पीछे नहीं हटेंगे. हालांकि जब भारत-पाक मैच की बात आती है, तो हालिया फॉर्म और इतिहास कहीं पीछे छूट जाते हैं. इस मैच के लिए जिसके दिल में आग ज्यादा होती है, वो जीतता है.

इस बार क्या होगा? 4 जून के मुकाबले के लिए भारतीय टीम यकीनन फेवरिट है. कमजोरी के नाम पर उनके बारे में कहने के लिए ज्यादा कुछ नहीं है. वे चैंपियंस ट्रॉफी जीतने के भी सबसे बड़े दावेदार हैं.

भारतीय टीम की बैटिंग और बॉलिंग दमदार

भारतीय लाइन-अप में गहराई है. मैच जिताने वाले बल्लेबाज और गेंदबाज हैं. जबरदस्त अनुभव है. ये काफी नहीं, तो उनके पास विराट कोहली हैं, जो अपना बेस्ट ऐसे बड़े मौके के लिए बचाकर रखते हैं. जिन्हें पाकिस्तान के खिलाफ उनकी क्षमताओं पर संदेह हो, वे एशिया कप और 2016 के टी 20 वर्ल्ड कप को देख सकते हैं. वहां अकेले दम पर विराट ने विपक्षी को ध्वस्त कर दिया था.

पाकिस्तान की बॉलिंग में दम, बैटिंग को लेकर फिक्र

पाकिस्तान की टीम को अंडरडॉग माना जा सकता है. उन्हें भारतीय बैटिंग ऑर्डर को झकझोरने के लिए अपने गेंदबाजों की जरूरत पड़ेगी. मोहम्मद आमिर, हसन अली और वहाब रियाज जैसे गेंदबाज इंग्लैंड के माहौल में पाकिस्तान के लिए ये काम कर सकते हैं. पाकिस्तान के पास स्पिन तिकड़ी है, जिसमें हालिया समय मे सनसनी की तरह आए शादाब खान हैं. उनके साथ अनुभवी इमाद वसीम और मोहम्मद हफीज हैं, जो तेज गेंदबाजों को सहयोग देंगे.

ind pak cricket (2)

दूसरी तरफ पाकिस्तान के बैटिंग ऑर्डर में फिक्रमंदी की बात है. उनके पास पावरहिटर्स की कमी है. फ्लेयर नहीं दिख रहा. बड़े स्कोर तक न पहुंच पाना बड़ी समस्या रहा है. सरफराज की टीम को लेकर प्रशंसक चाहते होंगे कि सब कुछ क्लिक कर जाए.

ऐसे में स्टेज तैयार है. ब्लॉकबस्टर मुकाबला होने वाला है. टिकट बिक चुके हैं. एजबेस्टन में जो कुछ भी हो, शानदार माहौल तो होगा ही. फुल हाउस होगा, मंत्रमुग्ध करने वाला खेल होगा. ड्रामा, दिल की धड़कने रोकने वाले लम्हे होंगे. ...और साथ में कुछ हीरो और कुछ विलेन भी मैच से मिलेंगे.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi