S M L

बीसीसीआई की देरी के कारण मिताली राज अब राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार पाने की दौड़ से बाहर

लेकिन अभी टीम इंडिया की सबसे सफल कप्तान मिताली राज के पास इस अवार्ड को पाने का एक मौका है

FP Staff Updated On: Aug 03, 2017 02:44 PM IST

0
बीसीसीआई की देरी के कारण मिताली राज अब राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार पाने की दौड़ से बाहर

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज अब राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार पाने की दौड़ से बाहर हो गईं हैं, क्योंकि बीसीसीआई मिताली का नाम खेल मंत्रालय को समय से भेजने में चूक कर गया है.

महिला वर्ल्ड कप में टीम इंडिया और मिताली के शानदार प्रदर्शन के बाद, मिताली राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार पाने की हकदार हो गई थीं. लेकिन बीसीसीआई की देरी की वजह से मिताली को खेल रत्न मिलने की संभावना अब कम हो गई है.

दरअसल खेल रत्न के लिए बीसीसीआई को भारत सरकार के खेल मंत्रालय के पास खिलाड़ियों की सूची भेजनी होती है. इसके लिए बीसीसीआई पूरे क्रिकेट सीजन में उम्दा प्रदर्शन करने वालों खिलाड़ियों की एक सूची खेल मंत्रालय के पास भेजता है.

लेकिन अभी टीम इंडिया की सबसे सफल कप्तान मिताली राज के पास इस अवार्ड को पाने का एक मौका है. अगर खेल मंत्रालय इस मामले में हस्तक्षेप करे, तो अभी भी मिताली को खेल रत्न मिलने की संभावना है. अब यह देखना होगा कि क्या, खेल मंत्रालय या खेल मंत्री विजय गोयल इस मुद्दे पर हस्तक्षेप करते हैं या नहीं.

रिटायर्ड जस्टिस सीके ठक्कर की अध्यक्षता में बारह लोगों की एक कमेटी बनी है. जो यह निर्णय लेगी कि किन-किन लोगों को इस साल खेल रत्न और अर्जुन अवॉर्ड दिया जाएगा. बता दें कि इन बारह लोगों की कमेटी में भारतीय टीम के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग और भारत की पूर्व दिग्गज एथलीट पीटी उषा भी शामिल हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi