विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

बीसीसीआई में सुधारों की राह में श्रीनिवासन अब भी बने हुए हैं बाधा

सीओए ने सुप्रीम कोर्ट में जमा की स्टेटस रिपोर्ट

FP Staff Updated On: Jul 12, 2017 11:10 PM IST

0
बीसीसीआई में सुधारों की राह में श्रीनिवासन अब भी बने हुए हैं बाधा

सुप्रीम कोर्ट ने भले ही बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन को बोर्ड से बेदखल कर दिया हो लेकिन वह अब भी बोर्ड में होने वाले बदलाव में बाधा बने हुए हैं. बोर्ड में लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के लागू करवाने के लिए बनी प्रशासकों की समिति यानी सीओए ने सुप्रीम कोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट सौंपी है. इस रिपोर्ट में सीओए ने कहा है कि निरंजन शाह और एन. श्रीनिवासन जैसे अयोग्य पदाधिकारी अपने निजी हितों के चलते लोढा समिति के सुधार लागू करने में बाधा पैदा कर रहे हैं.

इसके अलावा सीओए ने लोढ़ा समिति द्वारा खिलाड़ियों का संघ स्थापित करने की सिफारिश को लागू करने के उद्देश्य से संघ के गठन में मदद देने के लिए एक चार सदस्यीय संचालन समिति में कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़, भरत रेड्डी और जी. के. पिल्लई को शामिल करने की सिफारिश की है.

रिपोर्ट में कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी की तारीफ की गई है जो सुधार लागू करने के लिए प्रयासरत हैं. इसमें श्रीनिवासन के विश्वासपात्र अनिरुद्ध चौधरी पर मूक दर्शक बने रहने का आरोप लगाया गया है.रिपोर्ट में कहा गया है कि कि बोर्ड की राज्य इकाइयों में न सुधारों को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है.

सीओए ने इस रिपोर्ट के साथ एक ऑडियो फाइल जमा की है जिसमें संकेत है कि 26 जून की बैठक में कुछ अयोग्य सदस्यों ने बाधा डालने की कोशिश की. सीओए ने यह भी कहा कि प्रदेश इकाइयां अयोग्य लोगों को किसी तरह भीतर घुसाने के तरीके तलाश रही हैं चूंकि न्यायालय के फैसले में अयोग्य पदाधिकारियों को बीसीसीआई बैठकों से ही बाहर रखने की बात कही गई है. शाह जैसे लोग बिना किसी पद के हालात का फायदा उठा रहे हैं.

अदालत में इस मामले में 14 तारीख को सुनवाई होगी.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi