विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

कड़वाहट इतनी थी कि कुंबले न हटते तो कोहली हट जाते

हार के बाद ड्रेसिंग रूम में कुंबले की फटकार से नाराज थे टीम के सदस्य

FP Staff Updated On: Jun 22, 2017 05:26 PM IST

0
कड़वाहट इतनी थी कि कुंबले न हटते तो कोहली हट जाते

भारत के दो बड़े मैच विनर के बीच कड़वाहट का स्तर कहां तक पहुंच गया होगा, इसे लेकर तमाम खबरें आ रही हैं. कहा जा रहा है कि विराट कोहली ने तय कर लिया था कि अगर अनिल कुंबले रहेंगे, तो वो कप्तानी छोड़ देंगे. कड़वाहट यहां तक पहुंच गई कि विराट कोहली ने अपने ट्विटर हैंडल से वो ट्वीट डिलीट कर दिया, जो उन्होंने अनिल कुंबले के कोच बनते समय स्वागत में किया था. अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ में सूत्रों के हवाले से दावा किया गया है कि अगर कुंबले को कोच बरकरार रखा जाता, तो विराट कप्तानी छोड़ देते.

18 जून की शाम को इंग्लैंड के ओवल मैदान पर पाकिस्तान की जीत के साथ ही ना सिर्फ भारत का सपना टूटा बल्कि इसके साथ ही कुंबले और कोहली के बीच सुलह कराने की हर उम्मीद भी टूट गई. यूं तो कुंबले और कोहली के संबंधों में बीते कुछ महीनों से काफी खटास चल रही था लेकिन इसके बावजूद हालात उतने खराब नहीं हुए कि कोहली, कुंबले को कोच बनाए जाने पर कप्तानी छोड़ने की धमकी दे देते. लेकिन ऐसा हुआ. ऐसा हुआ चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले के अगले दिन यानी सोमवार को .

सोमवार को हुई इस मीटिंग में कोहली ने सीएसी के सदस्यों यानी सचिन,सौरव और लक्ष्मण को साफ साफ शब्दों में बता दिया कि अगर कुंबले कोच रहेंगे तो कोहली कप्तानी नहीं कर सकेंगे. कोहली के इन तेवरों से सीएसी के सदस्य भी हतप्रभ थे. कोच और कप्तान के बीच अनबन की बात काफी समय से हो रही थी. लेकिन सभी को उम्मीद थी कि मामला सुलझ जाएगा. इसी उम्मीद में बोर्ड ने वेस्टइंडीज के दौरे के लिए  टीम इंडिया के साथ कुंबले और उनकी पत्नी की टिकट भी बुक करा दी थी.

सोमवार को सीएसी के साथ हुई कोहली की जिस मीटिंग ने भारतीय क्रिकेट में भूचाल ला दिया उसकी पटकथा एक दिन पहले यानी चैंपियंस ट्रॉफी में हार के बाद ही लिख गई थी. खबरों के मुताबिक फाइनल में हार के बाद टीम के ड्रैसिंग रूम में कुंबले ने पूरी टीम को जमकर फटकार लगाई. अपने पूरे करियर में अनुशासन के साथ क्रिकेट खेलने वाले कुंबले के लिए यह टीम के लिए एक जरूरी सबक हो सकता था लेकिन सुपर स्टार का दर्जा पा चुके टीम इंडिया के क्रिकेटरों के लिए यह डांट ऐसी थी जैसे कोई स्कूल मास्टर अपने छात्रों को लगाता हो.

कप्तान और कोच के पहले से ही तल्ख चल रहे रिश्तों के ताबूत में रविवार की यह शाम आखिरी कील साबित हुई. माना जा रहा है कि कुंबले भारत पाकिस्तान के फाइनल मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला चाहते थे लेकिन कोहली ने मैदान पर इसके उलट फैसला किया.

कोहली ने सीएसी के साथ हुई मीटिंग ने यह साफ कर दिया कि कुंबले, कोच और कप्तान अधिकारों की सीमा रेखा का उल्लंघन करके उनके क्षेत्र में अतिक्रमण कर रहे हैं. और वह बिना अधिकारों वाला कप्तान नहीं बनना चाहते. यानी साफ था कि कि अगर कुंबले कोच रहेंगे तो कोहली कप्तानी छोड़ देंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi