S M L

क्या विराट कोहली के खिलाफ बिना खेले मैच जीत कर गए हैं कुंबले ?

कुंबले को बिचौलियों के रास्ते किसी भी तरह की बातचीत करना स्वीकार नहीं था

Jasvinder Sidhu | Published On: Jun 23, 2017 12:49 PM IST | Updated On: Jun 23, 2017 01:00 PM IST

0
क्या विराट कोहली के खिलाफ बिना खेले मैच जीत कर गए हैं कुंबले ?

अधिकतर श्मशान घाट की दीवारों पर लिखा रहता है कि अहं इंसान का सबसे बड़ा दुश्मन है. श्मशान घाट पर शायद यह इसलिए लिखा जाता है क्योंकि कई लोगों का अहं उनके साथ ही जाता है. भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली और पूर्व कोच व पूर्व ‘सर’ अनिल कुंबले के बीच खराब संबंधों की खाई को पार करने के लिए जीतने भी पुल बनाने की कोशिश हुई, वे अहं की भेंट चढ़ गए.

यहां दो बातें साफ हैं. एक, विराट का रुख साफ था कि वे कुंबले को और समय के लिए कोच नहीं चाहते. दो, यह भी कि जो भी दिक्कतें आ रही हैं, वह सीधे कुंबले के कोई बात नहीं करेंगे.

कुंबले ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि उन्हें एक दिन पहले ही बताया गया कि विराट को उनसे परेशानी है. लेकिन सुप्रीम कोर्ट की प्रशासनिक कमेटी और बीसीसीआई के अधिकारियों के अनुसार कुंबले के कोच बनने के छह महीने के बाद से ही दिक्कत शुरू हो गई थी.

दिक्कतें क्या थीं, यह किसी को नहीं पता और न ही विराट ने इसका जिक्र किया है. लेकिन यह आधिकारिक है कि दोनों के बीच संबंध काफी खराब थे.

विराट और कुंबले के बीच सुलह की आखिरी कोशिश करने वालों में से एक अधिकारी दावा करते हैं कि पहले तो दोनों ओर से कोई भी बात करने को तैयार नहीं था. लेकिन सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण के हस्तक्षेप के बाद कोहली मुद्दे पर चर्चा करने के लिए तैयार हो गए. लेकिन यहां कुंबले ने कोई बात करने से इनकार कर दिया.

वैसे उस क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों की हर बात पर यकीन नहीं किया जा सकता जिसकी ई-मेल आए दिन अखबारों में छपती हैं. बोर्ड के आधे अधिकारी स्टोरी प्लांट कैसे की जाती है, इस पर किताब लिख सकते हैं.

ऐसे में दो ही आदमी हैं जो सच बता सकते हैं और वे हैं कुंबले और विराट. इन दोनों में से किसी एक को रहस्य से पर्दा उठाना पड़ेगा. देखना रोचक होगा कि आने वाले दिनों में पहल कौन करता है.

बोर्ड के अधिकारी ने दावे से कहा कि कुंबले का तर्क था कि उन्हें विराट से कोई दिक्कत नहीं है. लिहाजा वह नहीं समझते की उन्हें बात करनी चाहिए. अगर यह बात सही है तो यहां पर कुंबले का स्टैंड पूरी तरह से सही था क्योंकि शिकायतकर्ता को पहले बताना पड़ेगा कि उसे क्या दिक्कत है. उसके बाद जिस के खिलाफ शिकायत हुई है, वह अपनी सफाई देगा.

Britain Cricket - India v Pakistan - 2017 ICC Champions Trophy Group B - Edgbaston - June 4, 2017 India's Virat Kohli lies on the ground after a mis-field Action Images via Reuters / Paul Childs Livepic - RTX38Z9U

कुंबले के जाने से विराट कोहली निशाने पर है और उसके पास अपनी सफाई देने के लिए कोई तर्क भी नहीं है. जाहिर है कि अगली बार किसी मैच में जीरो पर आउट होने या सीरीज में फेल हो जाने के बाद कुंबले के साथ विवाद का भूत विराट कोहली के सामने होगा और उसे हर बार उससे निपटने के लिए न जाने क्या-क्या उपाय करने होंगे.

यहां कोहली शिकायतकर्ता हैं. लिहाजा उन्हें सीधे कुंबले से बात करनी चाहिए थी जो उन्होंने नहीं की. वह सीधे बीसीसीआई के अधिकारियों को आगे रख कर लड़ाई लड़ रहे थे. जाहिर है कि कुंबले जैसा शख्स ऐसी स्थिति को अपने ढंग से हैंडल करेगा.

वेस्टइंडीज पहुंचने के बाद विराट कोहली ने कहा कि ‘अनिल भाई’ ने कोच पद से हटने का फैसला किया है और सभी उनके फैसले का सम्मान करते हैं. उनके दिल में कुंबले के लिए बड़ा सम्मान है और भारतीय क्रिकेट में उनके योगदान को कोई भी भूला नहीं सकता.

साफ है कि ‘अनिल सर’ से ‘अनिल भाई’ होने के मायने सभी को समझ आने चाहिए. लेकिन एक बात भी समझ में आनी चाहिए कि अगर दिल में इतना सम्मान है तो टीम में से किसी ने कुंबले से बात करने की जरूरत क्यों नहीं समझी!

जैसा कि कुंबले ने कहा कि एक दिन पहले ही उन्हें बताया गया कि कोच को उनसे दिक्कत है, यह समझने के लिए काफी है कि किसी ने उनके सामने जा कर अपनी बात नहीं रखी.

ऐसे में कुंबले के लिए बिचौलियों के रास्ते किसी भी तरह की बातचीत को स्वीकार करना आसान नहीं था.इसलिए उन्होंने अपने सम्मान की मर्यादा को बचाने के लिए चुपचाप बाहर निकल जाने का फैसला किया है. देखने में लग रहा है कि कोहली यह मुकाबला जीत गए हैं लेकिन सच यह है कि कुंबले ने बिना बॉलिंग किए भारतीय कप्तान का विकेट ले लिया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi