S M L

प्रसून जोशी: कोका कोला से मसक्कली और भाग मिल्खा भाग तक शब्दों का सफर

रंग दे बसंती, भाग मिल्खा भाग, तारे जमीं पर जैसी कई फिल्में उनके खाते में हैं और इन फिल्मों को कई खूबसूरत गाने दिए हैं

FP Staff Updated On: Sep 16, 2017 12:45 PM IST

0
प्रसून जोशी: कोका कोला से मसक्कली और भाग मिल्खा भाग तक शब्दों का सफर

सेंसर बोर्ड के हालिया चेयरमैन प्रसून जोशी की सबसे पुख्ता पहचान एक लेखक की है. प्रसून पहली बार अपने विज्ञापनों के लिए चर्चा में आए थे. 'ठंडा मतलब कोका कोला' जैसा वनलाइनर लिखने वाले प्रसून ने हिंदी सिनेमा के कई खूबसूरत गाने लिखे हैं.

उनके गानों की खासियत अक्सर बहुत ही आसान से लगने वाले शब्द होते हैं. प्रसून अपने गानों में धूप, सूरज और आसमां जैसे रूपक खूब इस्तेमाल करते हैं. उनके गानों में कई बार आम बोलचाल के मगर हिंदी सिनेमा के लिए अछूते मुहावरे भी आ जाते हैं. उनके जन्मदिन पर सुनिए उनके लिखे कुछ खूबसूरत गाने.

हर दिल में फुड़फुड़ करता एचटूएसोफोर है

तुझे सब है पता, है न मां

तो क्या करेंगे? हवन करेंगे, हवन करेंगे, हवन करेंगे

उड़ डगर-डगर कस्बे कूंचे नुक्कड़ बस्ती में... ऐ मसक्कली

लम्हों की गुज़ारिश है ये, पास आ जाएं, हम-तुम

होंठो की मुंडेर पे रुकी मोतियों सी बात बोल दो

ओ लौट के घर को आ जाओ सइयां

तू धूप है छम से बिखर, तू है नदी ओ बेखबर

हुई सुबह मैं जल गया, सूरज को निगल गया

जिंदा है तो

खुल के मुस्कुरा ले तू दर्द को शर्माने दे

शर्मो हया के पर्दे गिरा के करने दे हमको खता

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi