S M L

बंगाल: सांप्रदायिक हिंसा पर ममता से क्यों न जवाब तलब करें राज्यपाल

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल सरकार से नार्थ 24 परगना में भड़की सांप्रदायिक हिंसा पर रिपोर्ट मांगी है

Manish Kumar Manish Kumar Updated On: Jul 05, 2017 02:24 PM IST

0
बंगाल: सांप्रदायिक हिंसा पर ममता से क्यों न जवाब तलब करें राज्यपाल

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी के बीच तलवारें खिंच गई हैं. ममता ने राज्यपाल पर उनको अपमानित करने और धमकी देने का गंभीर आरोप लगाया है. बात इतनी बिगड़ी कि ममता ने यहां तक कह डाला कि अपना इतना अपमान उनके बर्दाश्त से बाहर हो गया और उन्हें लगा कि मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए.

ममता ने कड़े तेवर दिखाते हुए कहा कि राज्यपाल ने राज्य के संवैधानिक प्रमुख की बजाय उनसे बीजेपी के किसी कार्यकर्ता की तरह बात की. उन्होंने कहा कि 'राज्यपाल ने मुझे कई चीजें बोलीं जिससे मैंने खुद को काफी अपमानित महसूस किया. उन्होंने मुझे धमकी दी और बीजेपी के किसी ब्लॉक अध्यक्ष की तरह मुझसे बात की.'

ममता ने कहा कि राज्यपाल त्रिपाठी ने उनसे नार्थ 24 परगना में दो समुदायों के बीच सोमवार से जारी सांप्रदायिक संघर्ष के बारे में बातचीत की. वह मुझे कानून-व्यवस्था सिखा रहे थे. वह किसी का पक्ष क्यों ले रहे हैं? वह दोनों पक्षों को लेकर नहीं चल सकते?

Mamata Banerjee

नार्थ 24 परगना में भड़की सांप्रदायिक हिंसा को लेकर ममता बनर्जी और राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी आमने-सामने हैं

ममता की पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल के राजभवन के आरएसएस की शाखा की तरह बर्ताव करने का आरोप लगाया है. पार्टी के प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने राष्ट्रपति से राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी को उनके पद से हटाने की मांग की है.

वहीं, राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने ममता बनर्जी के लगाए आरोपों को खारिज करते हुए हैरानी जताई है. उन्होंने कहा कि लॉ एंड ऑर्डर के मसले पर वो चुप नहीं बैठे रह सकते.

भड़की हुई ममता ने दोनों समुदायों के धार्मिक नेताओं पर पैसे लेकर हिंसा भड़काने का आरोप लगाया. उन्होंने चेतावनी देते हुए सख्त लहजे में कहा, 'मैं दोनों समुदायों के नेताओं को चेतावनी देती हूं, मेरे धैर्य को मेरी कायरता न समझें. मैं इस गुंडागर्दी बर्दाश्त नहीं करूंगी.'

W Bengal Violence

भड़की हिंसा में उपद्रवी भीड़ ने कई दुकानों और मकानों को आग के हवाले कर दिया

दरअसल यह सारा फसाद उस समय शुरू हुआ जब किसी ने फेसबुक पर कुछ आपत्तिजनक पोस्ट कर दिया. एक संप्रदाय विशेष द्वारा दूसरे संप्रदाय के धार्मिक स्थल को निशाना बनाने के बाद हिंसा भड़क उठी. हालात की गंभीरता को समझते हुए पुलिस ने पोस्ट करने वाले को गिरफ्तार कर लिया.

मंगलवार को कोलकाता में ममता बनर्जी ने दोनों समुदायों के बीच भड़की हिंसा के लिए फेसबुक पोस्ट को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि पुलिस ने सजगता दिखाते हुए आरोपी शख्स को गिरफ्तार कर लिया है. लेकिन दूसरे समुदाय के लोग इसके बाद सड़क जाम करने लगे, पुलिस पर हमले किए और पुलिस के वाहनों को आग लगा दी.

W Bengal Violence

नार्थ 24 परगना में एक आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट के बाद दो समुदायों के बीच हिंसा भड़क उठी है

इस बीच, इसे लेकर अफवाहों के गरम बाजार को देखते हुए बुधवार को नार्थ 24 परगना और भदौरिया इलाके में इंटरनेट सेवाएं बाधित कर दी गई हैं.

बीजेपी के महासचिव और पार्टी के राज्य प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल पुलिस पर हालात को नियंत्रित करने में नाकाम रहने का आरोप लगाया. विजयवर्गीय ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बिगड़ती स्थिति का हवाला देकर इस मामले में हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया.

विजयवर्गीय ने राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा राज्यपाल पर उंगली उठाने की आलोचना की. उन्होंने कहा कि क्या राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी द्वारा सरकार से कानून-व्यवस्था को लेकर सवाल पूछना गलत है?

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से नार्थ 24 परगना में भड़की सांप्रदायिक हिंसा पर रिपोर्ट मांगी है.

मंगलवार को हिंसा पर काबू पाने के लिए पश्चिम बंगाल सरकार ने केंद्र से अतिरिक्त बल की मांग की थी. जिसके बाद गृह मंत्रालय ने राज्य पुलिस की मदद के लिए बीएसएफ के 400 जवान मौके पर भेजे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi